महिला दरोगा ने जानवरों से भरी गाड़ी को पैसा लेकर अपने ही दरोगा पर छोडने का लगाया आरोप

महिला दरोगा ने जानवरों से भरी ट्रक को पैसा लेकर अपने ही दरोगा पर छोड़ने का लगाया आरोप पुलिसिया उत्पीड़न से परेशान महिला दरोगा सुधा वर्मा ने किया बड़ा खुलासा। अमेठी। आखिर जब अपने ही ऊपर परेशानी आ जाती है तो सच सामने आ ही जाता है। पुलिस यारों वर्दी पहन कर दूसरों की समस्या से निजात दिलाने वाली महिला दरोगा पर अपने बच्चों की परवरिश की बात आई तो,छुट्टी मांगने के लिए अधिकारियों की चौखट पर दर-दर भटकने लगी। उसने कहा कि नौकरी करने आई थी खुद को बेचने नहीं।

आत्मसम्मान बचाने के लिए नौकरी कर रहे हो, यदि आत्म सम्मान नहीं सुरक्षित रहेगा तो इस्तीफा देना ही बेहतर होगा। एसपी को दिए शिकायत पत्र में खोल दी थानाध्यक्ष दिनेश सिंह की पोल। बीजेपी सरकार गोवंश कटान रोकने के लिए अथक प्रयास कर रही है लेकिन पुलिस अपनी झोलियां भरने में पीछे नहीं है सरकार गोवंश की सुरक्षा के लिए आश्रय स्थल खोल रखा है फिर भी जानवरों के कटान जोरों पर है।

अमेठी महिला दरोगा के वीडियो नेता पुलिस की पोल खोल कर रख दी है अब चाहे सरकार की छीछालेदर हो या पुलिस की।पुलिस के जिम्मेदारों को तो जेब भरने की लत से लग गई है। शिकायत करने वाली महिला ने अपनी बात पुलिस कप्तान से करें उसके पहले तय है कि घूसखोर दरोगा पर भले कार्यवाही ना हो, पीड़िता पर कार्यवाही होना अवश्य माना जा रहा है। अमेठी पुलिस ऑनलाइन घूस लेकर जानवरों की कटान बेधड़क करा रही है। जानवरों के अवैध कारोबार के साथ साथ सभी गोरखधंधा में पुलिस का हाथ होता है।

जब इसकी शिकायत पुलिस के आला अधिकारी को हुई तो पीड़ित का एक प्रधान के कहने पर ट्रांसफर कर दिया गया। अब देखना है कि योगी सरकार की पुलिसिंग व्यवस्था कैसे दुरुस्त हो पाती है सरकार जाने के बाद या उसके पहले​