जाने दिल्ली में कोरोना के मरीज रोजाना क्यों बढ़ रहे, एम्स निदेशक ने बताई यह असली वजह

जाने दिल्ली में कोरोना के मरीज रोजाना क्यों बढ़ रहे, एम्स निदेशक ने बताई यह असली वजह

दिल्ली में कोरोना संक्रमण के बढ़ते आंकड़ों पर एम्स के निदेशक डॉक्टर रणदीप गुलेरिया ने चिंता जाहिर की है। हालांकि उन्होंने कहा है यह दिल्ली में कोरोना की तीसरी लहर नहीं है। उन्होंने कहा कि अभी दूसरी लहर ही है जो फिर से तेज हो गई है। उन्होंने इसके पीछे सावधानी बरतने में ढिलाई का भी उल्लेख किया और कहा कि सोशल डिस्टेंसिंग का पालन ठीक से नहीं किया गया।

मास्क लगाने में भी ढिलाई बरती गई। डॉक्टर गुलेरिया ने इसके लिए मौसम और प्रदूषण को भी जिम्मेदार बताते हुए कहा कि प्रदूषण के कारण वायरस ज्यादा देर तक हवा में रहता है।

कुछ लोगों की इम्यूनिटी तीन से चार महीने बाद धीरे-धीरे कम होने लगती है। ऐसे में यह कहना मुश्किल है कि किसे कितने समय तक बचाव रहेगा। प्रदूषण और कोरोना की दोहरी चुनौती को लेकर एम्स के निदेशक ने कहा कि जब तक बेहद जरूरी न हो, बाहर न जाएं। जाना जरूरी भी हो तो मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए धूप निकलने के बाद जाएं।

डॉक्टर गुलेरिया ने चेतावनी देते हुए कहा कि यदि हम सावधानी नहीं बरतेंगे तो और भी ज्यादा मामले सामने आएंगे। एम्स के निदेशक ने कहा कि एक बार संक्रमित होकर ठीक होने के बाद भी प्रतिरोधक क्षमता कम होने लगती है, तो फिर से संक्रमण का खतरा है।

प्रदूषण और वायरस, दोनों ही फेफड़े को प्रभावित करते हैं। उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस अभी खत्म नहीं हुआ। यूरोप और अन्य देशों का उदाहरण देते हुए डॉक्टर गुलेरिया ने कहा कि मास्क जरूर लगाएं। जरूरी काम न हो तो बाहर न जाएं।