सुलतानपुर विद्युत विभाग की हड़ताल ने खोली डीजल चोरी की पोल

सुलतानपुर विद्युत विभाग की हड़ताल ने खोली डीजल चोरी की पोल

सुलतानपुर विद्युत विभाग की हड़ताल ने खोली डीजल चोरी की पोल
*विद्युत विभाग की हड़ताल ने खोली डीज़ल चोरी की पोल* *मोबाइल टॉवर से हो रहा तेल चोरी का खेल* (सुल्तानपुर)नेटवर्क खराबी का आज दूसरा दिन है। विद्युत कटौती विद्युत कटौती से मोबाइल नेटवर्क कंपनी ने खूब रुलाया है ।उपभोक्ता जब फोन मिलाता है तो फोन पर बात नहीं हो पा रही ।ऐसा लगभग सभी कंपनियों के साथ है। लेकिन जिओ नेटवर्क की स्थिति सबसे बदतर हो चली है । विद्युत कर्मियों की हड़ताल ने फोन टावर में हो रही चोरी की भी कलई खोल कर रख दी है।हर माह टावर कंपनी में लगे कर्मचारी लाखों रुपए का तेल चुरा रहे हैं । जिसके कारण उपभोक्ता मोबाइल फोन का नेटवर्क का लाभ नहीं ले पा रहे हैं । यह ट्राई के नियमों के खिलाफ भी है। बताते चलें कि जनपद में सैकड़ों मोबाइल टावर लगे हुए हैं लेकिन क्षेत्रीय काकस और वर्चस्व को लेकर तेल चोरी और मोबाइल के कंपनियों की केबल चोरी होना आम बात है।लेकिन विद्युत कटौती ने इस बात को साबित कर दिया है कि ज्यादातर मोबाइल कंपनी विद्युत विभाग पर ही आश्रित है। हर महीने लाखों रुपए का तेल टॉवर पर ड्यूटी कर रहे कर्मी चुरा लेते हैं। जिसकी कहीं रिपोर्ट तक दर्ज नहीं होती। मालूम हो कि विद्युत कटौती के बाद से मोबाइल टावर में चल रहा ए○सी अंत धीरे-धीरे बैठ जाता है ।जनरेटर को चलाने के लिए आए हुए डीजल को मोबाइल कंपनी द्वारा तैनात कर्मचारी चुरा लेता है ।वह जनरेटर को घंटों चालू नहीं करता ।लेकिन कागज पर डीजल की खपत दिखा देता है। जिसके कारण तेल चोरी का यह काम आसान हो जाता है । यदि मोबाइल कंपनी का कोई भी एरिया मैनेजर इस बात की शिकायत करता है तो क्षेत्र के छुटभैया नेता टावर को नुकसान पहुंचाते हैं और अपनी दादागिरी पर उतर आते हैं ।जिसके कारण पूरे मामले पर कोई लिखा पढ़ी नहीं होती और तेल चोरी का सिलसिला यूं ही चलता रहता है।