जनसेवक के रूप में गरीबो की करुगा सेवा, हर्ष वर्धन पाण्डेय

जनसेवक के रूप में गरीबो की करुगा सेवा, हर्ष वर्धन पाण्डेय

जनसेवक के रूप में गरीबो की करुगा सेवा, हर्ष वर्धन पाण्डेय
सरसौल। नर्वल तहसील क्षेत्र के विकास खण्ड सरसौल में समाज कल्याण विभाग द्वारा नियुक्त सहायक विकास अधिकारी के सेवानिवृत्त हो जाने के बाद आयोजित विदाई समारोह में जनप्रतिनिधियों व अधिकारियों ने भावभीनी विदाई करते हुए उनके द्वारा गरीबों के हित में किये गए कार्यो को याद किया।इस दौरान सेवानिवृत्त सहायक विकास अधिकारी हर्षबर्धन पांडेय ने रुंधे स्वर में अपने सम्बोधन में कहा कि वह अभी तक सरकारी कर्मचारी के तहत गरीबों की सेवा करते रहे परन्तु अब जन सेवक के रूप में कार्य करूंगा। खंड विकास अधिकारी कार्यालय परिसर में शनिवार को एडीओ समाज कल्याण के सेवानिवृत होने पर सम्मान समारोह का आयोजन किया गया। ब्लाक प्रमुख साधू यादव व बी डी ओ सौरभ बर्णवाल सहित सचिव ,प्रधान व अन्य जनप्रतिनिधियों ने स्मृति चिह्न अंग वस्त्र भेंटकर विदाई दी गई। सेवानिवृत ए डी ओ हर्षबर्धन पांडेय ने अपने सम्बोधन में भावुक होते हुए कहा की 1985 में इटावा से सरकारी सेवाएं प्रदान करते हुए प्रदेश के विभिन्न जिलों में रहते हुए सरकार की जनहितकारी योजनाओं को पात्रता के आधार पर कार्य करना उनका स्वभाव रहा है जिसका नतीजा यह रहा कि अंत्योदय तक सरकार की योजनाओं का लाभ पहुंचा।सरसौल में 12 वर्ष की सेवाएं देते हुए उन्होंने कहा कि इन बारह वर्षो में बसपा ,सपा व भाजपा सरकार में यहां कार्य करना सबसे यादगार इस लिये रहा किसी भी राजनीतिक दल का कोई भी नेता या कार्यकर्ता के साथ जनप्रतिनिधियों के साथ कोई राजनीतिक भेदभाव नही किया।यही कारण रहा कि सरसौल विकास खण्ड जिले में हमेशा प्रथम स्थान पर बना रहा।बीडीयो सौरभ बर्णवाल ने कहा कि सेवानिवृत होना नौकरी की एक प्रक्रिया है।संचालन अवर अभियंता अनिल कुमार यादव ने किया।इस अवसर पर मंत्री सतीश महाना के प्रतिनिधि सुरेंद्र अवस्थी, विनय मिश्रा ,बी डी सी सदस्य सत्यार्थ विक्रम, रानू शुक्ला, ए डी ओ पंचायत उदयवीर सिंह ने अपने अपने सम्बोधन में सेवानिवृत्त एडीओ के कार्यो को याद किया। कार्यक्रम में ग्राम प्रधान , क्षेत्र पंचायत सदस्य, ग्राम पंचायत/ ग्राम विकास अधिकारी मौजूद रहे। फोटो:- सरसौल -1 सेवानिवृत्त ए डी ओ हर्षबर्धन पांडेय को स्मृति चिन्ह भेंट करते ब्लाक प्रमुख ,बी डी ओ, सुरेंद्र अवस्थी व सत्यार्थ विक्रम ।