ट्विटर के सीईओ (भारतीय नागरिक) को हटाने के बाद एलन मस्क बोले "चिड़िया आज़ाद हुई"

 
Jl

दुनिया के सबसे अमीर शख्स और टेस्ला के मालिक एलन मस्क ने आखिरकार गुरुवार को ट्विटर डील फाइनल कर दी। ट्विटर खरीदने के बाद मस्क ने शुक्रवार को कंपनी के चीफ एग्जीक्यूटिव ऑफिसर (CEO) पराग अग्रवाल, चीफ फाइनेंशियल ऑफिसर (CFO) नेड सेगल और लीगल अफेयर्स एंड पॉलिसी चीफ विजया गड्डे को कंपनी से हटा दिया।

ब्लूमबर्ग की रिपोर्ट्स के मुताबिक, ट्विटर तीनों अधिकारियों पर हर्जाने के तौर पर कुल 100 मिलियन डॉलर यानी 823 करोड़ रुपए खर्च करेगी। इनमें पराग अग्रवाल को सबसे ज्यादा 50 मिलियन डॉलर यानी करीब 412 करोड़ रुपए मिलेंगे। वहीं नेड सेगल को 37 मिलियन डॉलर (304 करोड़ रुपए) और विजया गड्डे को 17 मिलियन डॉलर यानी करीब 140 करोड़ रुपए कंपनी देगी।

वहीं, रिसर्च फर्म इक्विलर ने अप्रैल में कहा था कि अगर अग्रवाल को टर्मिनेट किया जाता है तो उन्हें 4.2 करोड़ डॉलर यानी 346 करोड़ रुपए मिलेंगे। इक्विलर ने उनकी बेस सैलरी और बाकी इक्विटी अवॉर्ड्स के आधार पर यह आंकलन किया था।

नवंबर 2021 में CEO बने थे पराग अग्रवाल
बता दें कि पिछले साल नवंबर में जैक डोर्सी के इस्तीफे के बाद पराग अग्रवाल को कंपनी का CEO बनाया गया था। पराग नवंबर में CEO बनने से पहले ट्विटर के चीफ टेक्नोलॉजी ऑफिसर थे। साल 2021 में उन्हें सैलरी और दूसरे भत्तों के रूप में 3.04 करोड़ डॉलर मिले थे। CEO के रूप में अग्रवाल का वेतन सालाना 1 मिलियन डॉलर यानी 9 करोड़ 24 लाख रुपए बताया गया था।

5,600 कर्मचारियों की छंटनी हो सकती है
द वॉशिंगटन पोस्ट की एक रिपोर्ट के मुताबिक, मस्क कंपनी के 7,500 एम्प्लॉइज में से 75%, यानी करीब 5,600 कर्मचारियों को नौकरी से हटा सकते हैं। उन्होंने ट्विटर डील के दौरान संभावित निवेशकों से यह बात कही थी। हालांकि यह रिपोर्ट आने के बाद ट्विटर के जनरल काउंसल सीन एडगेट ने इससे इनकार किया है। कर्मचारियों को ईमेल भेज कर कहा कि कंपनी छंटनी को लेकर कोई प्लान नहीं बना रही है।

अब पूरा मामला समझें
मस्क ने 14 अप्रैल को 43 अरब डॉलर में ट्विटर खरीदने का ऑफर दिया था। मस्क ने कहा था कि ट्विटर में निवेश शुरू करने से एक दिन पहले के भाव से 54% प्रीमियम पर 54.20 डॉलर प्रति शेयर के हिसाब से 100% हिस्सेदारी खरीदने की पेशकश कर रहा हूं। यह ऑफर मेरा सबसे अच्छा और आखिरी ऑफर है और यदि इसे स्वीकार नहीं किया जाता है, तो मुझे एक शेयरधारक के रूप में अपनी स्थिति पर पुनर्विचार करने की जरूरत होगी।

मस्क के पास ट्विटर की 9.2% हिस्सेदारी थी। 4 अप्रैल को इसकी जानकारी सामने आई थी। मस्क ने भले ही शुरुआती फाइलिंग में 43 अरब डॉलर का ऑफर दिया था, लेकिन ट्विटर की डील को मंजूरी के बाद ये आंकड़ा 44 अरब डॉलर पर पहुंच गया था। हालांकि, बाद में मस्क ने कहा कि स्पैम अकाउंट की सही जानकारी नहीं होने के कारण वह डील को कैंसिल कर रहे हैं। डील कैंसिल होने के बाद ट्विटर कोर्ट पहुंच गया था।