जंतर मंतर पर दिल्ली सरकार के खिलाफ हुआ प्रदर्शन ।

Public Route Share

पूर्व केंद्रीय मंत्री और वरिष्ठ भाजपा नेता विजय गोयल ने प्रदूषण के मुद्दे पर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। रविवार को उन्होंने जंतर-मंतर पर दिल्ली सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किया। विजय गोयल का आरोप है कि दिल्ली में ऑड-इवेन फेल हो गई है और प्रदूषण लगातार बढ़ रहा है। भाजपा नेता ने सीएम केजरीवाल का इस्तीफा मांगा है।

Loading...

बता दें कि दिल्ली सरकार की ऑड-इवेन स्कीम 15 नवंबर को खत्म हो गई। सीएम केजरीवाल सोमवार को इस योजना को बढ़ाने को लेकर फैसला लेंगे। भाजपा नेता ऑड-इवेन लागू करने का पहले भी विरोध करते रहे हैं। इससे पहले विजय गोयल ऑड-इवेन के खिलाफ गाड़ी लेकर सड़क पर उतरे थे। नियम का उल्लंघन करने पर पुलिस ने चालान काट दिया था। 

.दिल्ली-एनसीआर में शुक्रवार को प्रदूषण का स्तर इमरजेंसी स्तर तक पहुंच गया था। शाम पांच बजे हवा में प्रदूषक कण पीएम 10 की मात्रा 526 और पीएम 2.5 कणों की मात्र 379 माइक्रोग्राम प्रति घन मीटर दर्ज की गई थी। सफर और स्काईमेट के अनुसार पराली का धुआं दिल्ली को सिर्फ दस फीसद ही प्रभावित कर रहा है। भाजपा का आरोप है कि केजरीवाल सरकार की गलत नीतियों की वजह से प्रदूषण बढ़ रहा है। 

तेज हवाओं के चलने की वजह से रविवार को दिल्ली-एनसीआर में प्रदूषण के स्तर में थोड़ा सुधार दर्ज किया गया लेकिन अभी भी स्थिति खराब बनी हुई है। तेज हवा के चलने की वजह से शनिवार को भी लोगों को कुछ राहत मिली थी। दिन में 18 से 20 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवा चली और धूप भी खिली रही। इसी वजह से वायु प्रदूषण के स्तर में सुधार दर्ज किया गया। दिल्ली के लोधी रोड इलाके में रविवार को पीएम 2.5 का स्तर 218 और पीएम 10 का स्तर 217 दर्ज किया गया।

Loading...
Loading...

jaya verma

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

कानपुर मे बनेगी विशेष अदालत ,जिसमे नेताओ के मुकदमो की होगी सुनवाई।

Sun Nov 17 , 2019
Public Route Shareजनप्रतिनिधियों के खिलाफ दर्ज मुकदमों की सुनवाई अब कानपुर की विशेष अदालत में शुरू हो गई है। अपर जिला जज-11 बालकृष्ण एन. रंजन को विशेष न्यायाधीश के रूप में मुकदमों की सुनवाई का जिम्मा सौंपा गया है। इलाहाबाद की विशेष अदालत से कानपुर के 21 मुकदमों की फाइलें […]

Top Artical

Loading…