बेसहारा बच्चों को सहारा बने पुरवामीर चौकी इंचार्ज नीरज बाबू

बेसहारा बच्चों को सहारा बने पुरवामीर चौकी इंचार्ज नीरज बाबू

बेसहारा बच्चों को सहारा बने  पुरवामीर चौकी इंचार्ज नीरज बाबू
*बेसहारा बच्चों को सहारा बने पुरवामीर चौकी इन्चार्ज नीरज बाबू* सरसौल। अपने नेक कार्यों के लिए सदैव चर्चा में रहने वाले महाराजपुर थाना क्षेत्र के पुरवामीर चौकी इंचार्ज नीरज बाबू दरोगा एक बार फिर बेसहारा बच्चों के सहारा बनकर लोगों का दिल जीत लिया। बीते दिनों महाराजपुर थाना क्षेत्र के गौशाला गांव में आग लगने से 35 वर्षीय उषा पत्नी जय राम निषाद तथा जय राम निषाद उम्र लगभग 38 वर्ष की आग में जलकर दर्दनाक मौत हो गई थी तथा उनके 5 बच्चे जिनकी माता पिता के गुजरने के बाद से माली हालत दयनीय है तथा पांचों बच्चे अपनी दादी के साथ रहते हैं परिवार में कोई कमाई का जरिया ना होने के कारण घर में खाने-पीने तक के लाले पड़ गए हैं तथा आग लगने से घर के गर्म कपड़े जल गए हैं जिसकी वजह से बच्चे ठंड में ठिठुरते नजर आते हैं। अपने नेक कार्यों की वजह से सदैव चर्चा में रहने वाले चौकी प्रभारी पुरवामीर नीरज बाबू ने गुरुवार को गौशाला गांव जाकर बच्चों का हालचाल लिया तथा आटा चावल सहित खाने-पीने की सामग्री तथा कुछ आर्थिक मदद भी की। पुरवामीर चौकी प्रभारी ने क्षेत्रीय लोगों से अपील करते हुए कहा कि सभी लोग इन बेसहारा बच्चों का सहारा बने और इनकी परवरिश के लिए आगे आए क्योंकि उनके मां-बाप के गुजर जाने के बाद उन बच्चों की परवरिश बेहद मुश्किल हो रही है हम सभी लोगों को मिलकर इन बच्चों की देखरेख करना है जिसमें मदद के लिए कई लोगों ने अपने हाथ बढ़ाएं हैं। क्षेत्रीय लोगों ने बताया कि पुरवामीर चौकी प्रभारी द्वारा लॉकडाउन अवधि में लगातार 1 सप्ताह तक पुरवामीर चौराहे पर विशाल भंडारा कराया गया था तथा प्रवासी मजदूरों को निशुल्क भोजन व पानी उपलब्ध कराया था इसके साथ ही लगभग 1 महीने तक नौगवा गौतम डोमनपुर सहित कई गांवों में लोगों के घरों तक खाद्य सामग्री पहुंचाई थी एवं आर्थिक मदद भी की थी जिसकी सराहना करते हुए लोगों ने नीरज बाबू के इस फैसले को भी स्वीकार करते हुए हर संभव मदद का आश्वासन दिया।