देश में अबतक कक सबसे बड़ी रेड, एक साथ 12 राज्यों में पीएफआई के ठिकानों पर छापेमारी

 
Kp

राष्ट्रीय जांच एजेंसी का अबतक की सबसे बड़ी रेड जारी है. गुरूवार को एक साथ देश के 12 राज्यों में एक साथ अहले सुबह एनआईए ने छापामारी शुरू की. यह छापेमारी पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया  के ठिकानों पर जारी है. देश में केरल, तमिलनाडु, कर्नाटक, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, बिहार, उत्तर प्रदेश, राजस्थान, दिल्ली, असम, मध्यप्रदेश और महाराष्ट्र में छापेमरी चल रही है. इस मामले में अबतक पीएफआई से जुड़े 100 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है. समाज में सांप्रदायिकता फैलाने के आरोप में पीएफआई अभी सिर्फ झारखंड में ही बैन है. इस छापेमारी में एनआईए के साथ प्रर्वतन निदेशालय और राज्य पुलिस बल अपनी अहम भुमिका निभा रहा है. ईडी द्वारा पकड़े गए लोगों की संपत्ति का आकलन भी छापेमारी के साथ किया जा रहा है. 

टेरर फंडिंग केस में हो रही इस कार्रवाई में उत्तर प्रदेश, केरल, कर्नाटक, तेलंगाना, आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु, असम, ओडिशा, महाराष्ट्र, बिहार, मध्यप्रेदश में संगठन से जुड़े लोगों को गिरफ्तार किया जा रहा है. मिली जानकारी के अनुसार इस रेड को एनआईए के करीब 200 अधिकारी अंजाम दे रहे हैं.  अबतक केरल के मंजेरी में पीएफआई चेयरमैन ओमा सालेम के ठिकानों पर भी छापेमारी जारी है. यहां से 4 पीएफआई को हिरासत में लिया गया है. ओमा सलेम, पीएफआई के केरल राज्य चीफ मोहम्मद बशीर, राष्ट्रीय सचिव वीपी नजरूद्दीन और राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य पी कोया को हिरासत में लिया गया है.

अबतक की जानकारी के अनुसार महाराष्ट्र में पीएफआई से जुड़े ठिकानों पर एनआईए की छापेमारी चल रही है. मध्य प्रदेश के इंदौर में भी पीएफआई के दफ्तर पर छापा चल रहा है. बिहार के पूर्णिया में भी रेड चल रहा है. मध्यप्रदेश के इंदौर और उज्जैन में पीएफआई के एमपी के स्टेट लीडर्स को हिरासत में लिया गया. 4 लीडर्स को मध्यप्रदेश के उज्जैन और इंदौर से एनआईए ने हिरासत में लिया जा चुका है. 

एनआईए, ईडी और राज्य पुलिस की तरफ की जारी इस रेड के विरोध में पीएफआई के कार्यकर्ता विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं. केरल के मल्लपुरम, तमिलनाडु के चेन्नई, कर्नाटक के मंगलुरु समेत कई जगहों पर संगठन के कार्यकर्ता सड़कों पर उतर आए हैं. पीएफआई ने बयान जारी करते हुए कहा है कि आवाज दबाने के लिए यह कार्रवाई की जा रही है. सेंट्रल एजेंसी हमें प्रताड़ित कर रही है.