प्रदेश के सभी 75 जिले हुए कोरोना कर्फ्यू से मुक्त

प्रदेश के सभी 75 जिले हुए कोरोना कर्फ्यू से मुक्त

यूपी में कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर कमजोर होती जा रही है जिसे देखते हुए प्रदेश के सभी 75 जिलों को कोरोना कर्फ्यू से मुक्त कर दिया गया। बुधवार को प्रदेश के सभी जिलों में सुबह सात बजे से शाम सात बजे तक बाजार खोले जाएंगे। हालांकि, सिनेमाघर, मॉल और जिम पर पाबंदी लगी रहेगी। वहीं, रेस्टोरेंट खोलने की अनुमति तो रहेगी लेकिन वहां बैठकर खाने की अनुमति नहीं होगी। रेस्टोरेंट से केवल होम डिलीवरी की जा सकेगी। रात्रिकालीन कर्फ्यू और वीकेंड कर्फ़्यू पहले की तरह लागू रहेगा।

यूपी सरकार की ट्रेस, टेस्ट और ट्रीट की नीति कोरोना संक्रमण के नियंत्रण में सफल सिद्ध हुई है। इसी का परिणाम है कि लगातार संक्रमण के केस कम हो रहे हैं। प्रदेश सरकार का दावा है कि 25 करोड़ की आबादी के बाद भी यूपी में जितने एक्टिव केस बचे हैं उतने कई राज्यों में नए केस आ रहे हैं। अब प्रदेश में कुल सक्रिय केस 14 हजार बचे हैं। पिछले 24 घंटे में 2.85 लाख लोगों की कोरोना जांच में 797 लोग संक्रमित पाए गए हैं। अब राज्य का पॉजिटिविटी रेट 0.2 फीसद और रिकवरी रेट 97.1 फीसद है।

उत्तर प्रदेश योगी सरकार ने संक्रमण की चेन तोड़ने के लिए सभी 75 जिलों में आंशिक कोरोना कर्फ्यू लगाया था। इसके साथ ही नाइट कर्फ्यू और शनिवार और रविवार की साप्ताहिक बंदी की। इन प्रयासों से जब संक्रमण के मामले लगातार घटने लगे तो सरकार ने व्यवस्था बना दी कि जिन-जिन जिलों में 600 से कम सक्रिय मामले होंगे, उन्हें सप्ताह में पांच दिन कोरोना कर्फ्यू में छूट दी जाएगी। इस तरह बड़ी तेजी से जिलों में सुधार होता गया और अब सभी 75 जिले कोरोना कर्फ्यू छूट पा चुके हैं। नाइट कर्फ्यू और साप्ताहिक बंदी अभी लागू रहेगी।

योगी आदित्यनाथ ने मंगलवार को वरिष्ठ अधिकारियों के साथ कोरोना प्रबंधन की समीक्षा बैठक के दौरान पाया कि प्रदेश के सभी जिलों में अब 600 से कम कोरोना के सक्रिय केस हो गए हैं। इस पर निर्देश दिया कि अब सभी जिलों में कोरोना कर्फ्यू से राहत दे दी जाए। अब बुधवार से निर्धारित नियम-शर्तों के साथ बाजार खोलने व अन्य गतिविधियों की अनुमति दे दी जाएगी। हालांकि, सीएम योगी ने कोविड-19 से बचाव और इलाज की व्यवस्थाओं को लगातार मजबूत रखने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा सभी के सम्मिलित सहयोग और प्रयास से कोरोना संक्रमण पर प्रभावी रोकथाम में सफलता मिली है। संक्रमण की चेन हर स्तर पर तोड़ने के लिए प्रभावी प्रयास जारी रहने चाहिए।