बछरावां नगर व क्षेत्र के लोग जाम की समस्या से परेशान

 
up

एक तरफ भीषण गर्मी से लोगों का जीना मुहाल है वही बछरावां मेन चौराहे से शिवगढ़ रोड लालगंज रोड और ओवर ब्रिज के नीचे ठेला लगाकर तखत डालकर और अस्थाई कब्जा करके सड़क के इस तरफ से उस तरफ जाने का रास्ता बंद होने से आम जनमानस घंटो जाम में फंसे रहते हैं। इन दबंग पटरी दुकानदारों की गुंडई का आलम तो यह है अगर किसी भी राहगीर के चार पहिया दो पहिया वाहन के ठेले में या तखत पर छू जाने तक पर लड़ाई झगड़े पर भी आमादा हो जाते हैं। आए दिन यह घटनाएं होती रहती हैं इसी तरह महाराजगंज तिराहे से सरकारी अस्पताल तक दोनों तरफ नाले के ऊपर 4 मीटर पर अवैध कब्जा करके आने जाने वाले राहगीरों को घंटो जाम में हलाकान रहना पड़ता है अवैध अतिक्रमण के कारण व नालों के नीचे की सफाई ना होने से मच्छर जनित संक्रमित बीमारियां पांव पसारती है और लोग बीमार होते हैं और नाले की सफाई भी नहीं हो पाती है अभी कुछ दिन पूर्व पावर हाउस से लेकर डाक घर जाने वाले मार्ग तक इंटरलॉकिंग लगवाई गई थी और पटरी दुकानदारों को नाले के उस पार की अपनी दुकान लगाने को हिदायत दी गई थी लेकिन उनकी गुंडई का आलम तो यह है सड़क के ऊपर तक अतिक्रमण किए हुए हैं जिससे आए दिन मार्ग दुर्घटना में लोगों की बे समय दुर्घटनाग्रस्त होकर काल के गाल में समा रहे हैं और दर्जनों घटनाएं होती रहना आम बात हो गई है।

इसी तरह पुराने नगर पंचायत कार्यालय से लेकर बानगी मंडी चौराहे तक आलम तो यह है कि बाजार के दिनों में तो दो पहिया वाहन से भी जाना मुश्किल हो जाता है क्योंकि अतिक्रमणकारी पूरी सड़क पर अपना कब्जा ही जमा लेते हैं यही नहीं बछरावां नगर के मुख्य मार्गों पर दबंग लोगों द्वारा फुटपाथ को कब्जा करके 2000 से लेकर 10,000 महीने तक किराए पर उठाने का गोरखधंधा वर्षों से संचालित है लेकिन नगर पंचायत बछरावां के अधिशासी अधिकारी इस अतिक्रमण की समस्या पर मौन साधे हुए हैं अभी कुछ दिन पूर्व अधिशासी अधिकारी स्वेता सिंह से अतिक्रमण की बात संवाददाता ने की थी तो बताया था कि एमएलसी चुनाव की अधिसूचना के बाद अतिक्रमण हटवाया जाएगा लेकिन 15 दिनों से अधिक समय बीत जाने के बाद अधिशासी अधिकारी अतिक्रमणकारियों पर कोई कार्यवाही नहीं कराई जा रही है जबकि इस अतिक्रमण को लेकर बछरावां नगर के आम जनमानस और व्यापार मंडल के पदाधिकारियों द्वारा कई बार अधिशासी अधिकारी और उप जिला अधिकारी महाराजगंज से अतिक्रमण हटवाने का प्रयास किया गया लेकिन इन अधिकारियों की कान में जू तक नहीं रेंगी तो सवाल उठता है कि क्या इसी तरह दबंग अतिक्रमण कारी आम जनमानस इस इस भीषण गर्मी में घंटों जाम में फस कर मौत को दावत देते रहेंगे क्या नगर पंचायत प्रशासन जागेगा या कुंभकरण की नींद सोता ही रहेगा।