गजियाबाद में मारपीट से ऑटो चालक की मौत, 4 पुलिसकर्मी पर FIR

 
gjngkmvghb

सड़क हादसे के बाद रविवार रात इंदिरापुरम कोतवाली की कनावनी पुलिस चौकी में लाए गए ऑटो चालक की घर जाकर अचानक तबीयत बिगड़ने से मौत हो गई। स्वजन ने पुलिस की पिटाई से मौत होने का आरोप लगाकर सोमवार को करीब साढ़े आठ घंटे शांति गोपाल अस्पताल के सामने प्रदर्शन किया।

इस दौरान दो बार सीआइएसएफ रोड जाम की। पुलिस अधिकारियों ने उचित कार्रवाई और मुआवजा दिलाने का आश्वासन देकर लोगों को शांत कराया। तहरीर के आधार पर कनावनी पुलिस चौकी प्रभारी उपनिरीक्षक अमित कुमार, सिपाही रविंद्र व दो अज्ञात सिपाहियों के खिलाफ देर रात गैरइरादतन हत्या की रिपोर्ट दर्ज हुई।

"पुलिसकर्मियों को जेल भेजें"

समाजवादी पार्टी के ट्विटर हैंडल से इस मामले को लेकर ट्वीट किया गया है। उसमें लिखा गया कि पार्टी मृतक के परिवार को पांच लाख रुपये की आर्थिक मदद करेगी। मुख्यमंत्री आरोपित पुलिसकर्मियों को जेल भेजें। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने इस घटना को लेकर ट्वीट किया है। उन्होंने घटना को बेहद शर्मनाक बताते हुए मृतक की पत्नी को सरकारी नौकरी और एक-एक करोड़ रुपये मुआवजा देने की मांग की है

मूलरूप से नागला बांसगांव थाना अमापुर जिला कासगंज के 28 वर्षीय धर्मपाल यहां कनावनी में किराए पर रहते थे। वह ऑटो चलाकर अपना जीवनयापन करते थे। उनके चचेरे भाई मुरारी ने बताया कि रविवार रात करीब 10 बजे धर्मपाल ऑटो लेकर जा रहे थे। कनावनी पुश्ता पर उनका ऑटो एक साइकिल से टकरा गया। सूचना पर पहुंची पुलिस भाई व साइकिल सवार छिजारसी के जगतराम को लेकर शांति गोपाल अस्पताल पहुंची। वह भी अस्पताल पहुंच गए।