अटूट प्रेम :एक ही चिता पर अंतिम संस्कार, शव देखते ही पत्नी ने भी त्यागा प्राण

बेटियों ने  अर्थी को कंधा दिया
 
 चिता

 78 साल के बुजुर्ग को कुछ दिनों से सांस लेने में दिक्कत हो रही थी। शनिवार को जब अचानक तबीयत बिगड़ी तो उन्हें पहले नागौर और फिर जोधपुर इलाज के लिए ले जाया गया, जहां सुबह चार बजे उनकी मौत हो गई। शव सुबह 8 बजे घर पहुंचा। शव देखते ही पत्नी को जोरदार सदमा लगा और मौत हो गई।

परिजनों के अनुसार बुजुर्ग दंपती को कोई बेटा नहीं है। केवल दो बेटियां ही हैं। इसके चलते दोनों बेटियों ने ही अर्थी को कंधा दिया। एक ही चिता पर माता-पिता को मुखाग्नि दी गई। 

राजस्थान के नागौर से एक भावुक कर देने वाली घटना सामने आई है। दरअसल, यहां एक पत्नी ने पति का शव देखते ही प्राण त्याग दिया। बताया जाता है कि दोनों की शादी 58 साल पहले हुई और इतने लंबे समय का साथ छूटने का सदमा वह बर्दाश्त नहीं कर पाईं।

मृतक राणाराम सेन का करीब 58 साल पहले भंवरी देवी के साथ शादी हुई थी। ग्रामीणों ने बताया कि दोनों में अटूट प्रेम था। दोनों हमेशा एक साथ रहते थे और अब एक साथ दुनिया छोड़ी है।