पुष्पराज जैन के यहा मारना था छापा, बीजेपी ने गलती से अपने ही आदमी के घर रेड मरवा दी-अखिलेश यादव

इत्र कारोबारी को लेकर अखिलेश का पलटवार
 
अखिलेश यादव
इत्र कारोबारी

कन्नौज के इत्र व्यापारी पीयूष जैन के घर से करोड़ों रुपये बरामद हुए हैं. कुबेर कांड की इस घटना के बाद दो नामों की चर्चा है. दोनों के नाम का पहला अक्षर पी (P) है और दोनों का सरनेम भी एक ही है- जैन. इतना ही नहीं, दोनों में इतनी समानताएं हैं कि दोनों कन्नौज के उसी मुहल्ले के रहने वाले पड़ोसी हैं, जिस जैन गली के नाम से जाना जाता है. संयोग इतना कि दोनों ही इत्र का व्यापार करते हैं और यूपी चुनाव से पहले अब दोनों का नाम उछल गया है.

मंगलवार को पीएम मोदी  ने पीयूष जैन  के घर हुई छापेमारी का परोक्ष रूप से जिक्र किया, जिसमें 194 करोड़ रुपये से अधिक नकद बरामद हुए हैं और समाजवादी पार्टी पर सत्ता में अपने कार्यकाल के दौरान पूरे यूपी में ‘भ्रष्टाचार का इत्र’ छिड़कने का आरोप लगाया. वहीं, अखिलेश यादव ने कहा कि केंद्रीय एजेंसियों ने गलत जैन के घर छापेमारी की है, जिसका संबंध भाजपा से है. उन्होंने कहा कि सपा के जैन, पुष्पराज ‘पम्पी’ जैन हैं, जो एक एमएलसी हैं, जिनका लेटेस्ट इत्र उन्होंने पिछले महीने लॉन्च किया था, जिसे ‘समाजवादी इत्र’ कहा गया था.

समाजवादी पार्टी चीफ अखिलेश यादव ने कानपुर-उन्नाव में कारोबारी पीयूष जैन पर पड़े छापों को लेकर सत्तारूढ़ बीजेपी और सीएम योगी आदित्यनाथ पर पलटवार किया है. अखिलेश ने कहा है कि 'BJP ने गलत जगह छापा मार दिया. अपने आदमी के यहां बीजेपी ने छापा मरवा दिया और यह डिजिटल गलती हो गई. पुष्पराज जैन की जगह पीयूष जैन के यहां छापा पड़वा दिया.' आपको बता दें कि पिछले हफ्ते जब से कारोबारी पीयूष जैन के ठिकानों पर छापा पड़ा है, और अब एसपी और बीजेपी आमने-सामने हैं. बीजेपी कारोबारी पीयूष जैन को समाजवादी इत्र लॉन्च करने वाले एसपी एमएलसी पुष्पराज उर्फ पम्पी जैन से जोड़ रही है. हालांकि, एसपी और एमएलसी पम्पी जैन, दोनों ने ही इससे इंकार किया है कि उनका पीयूष जैन से कोई संबंध है. अब अखिलेश यादव ने इस मामले को लेकर बीजेपी के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है. 

आपको बता दें कि अखिलेश 28 दिसंबर यानि की आज उन्नाव पहुंचे. जहां 'समाजवादी विजय यात्रा' को संबोधित करने से पहले उन्होंने मीडिया से बातचीत की और बताया की मुख्यमंत्री से बड़ा झूठा मुख्यमंत्री कोई नहीं हो सकता इस धरती पर. अगर कोई योगी भगवा वस्त्र पहनकर झूठ बोले, तो इस पर कोई भरोसा कैसे करेगा? सीएम जो कह रहे हैं कि कानपुर में जो पैसा निकला है वो कहीं न कहीं समाजवादियों...से जुड़ता है, इससे बड़ा झूठ मुख्यमंत्री बोल नहीं सकते, जो वो बोल रहे हैं." अखिलेश ने कहा, "लगातार समाजवादी रथ चल रहा है. जनता का अपार साथ मिल रहा है, जिससे बीजेपी घबराई हुई है. आज सरकार झूठ बोल रही है. बड़े पैमाने पर बेरोजगारी है. बिजली का बिल महंगा है, जो बिजली का कारखाना लगना शुरू हुआ था आज तक नहीं लग सका. सबसे झूठी पार्टी है बीजेपी."