मेरे जिगरी दोस्त का दिल तोड़ा था... इसलिए लड़की को तो मरना ही था, आरोपी ने किया खुलासा

3 घंटे तक शव को लेकर घूमते रहे आरोपी
 
फतेहपुर
फतेहपुर

मेरे जिगरी दोस्त का दिल तोड़ा था...इसलिए उस लड़की को तो मरना ही था...। रेल बाजार में एमएससी छात्रा से दुष्कर्म, लूटपाट और हत्या के मामले में कोर्ट में आत्मसमर्पण करने वाले तीसरे आरोपी फतेहपुर निवासी रावेंद्र ने कुछ इसी अंदाज में शुक्रवार को पुलिस को अपने बयान दर्ज कराए। इस दौरान उसे अपने किए पर जरा सा भी पछतावा नहीं दिखा। पुलिस उसे कस्टडी रिमांड पर लेने के लिए जल्द ही कोर्ट में अर्जी देगी। 29 दिसंबर को सीओडी पुल के नीचे एमएससी छात्रा का शव पड़ा मिला था। साथी छात्र सोमनाथ गौतम ने दोस्त सत्यम मौर्या और रावेंद्र के साथ मिलकर छात्रा की हत्या की थी। हत्या से पहले सोमनाथ ने छात्रा से दुष्कर्म भी किया था। गुरुवार को रावेंद्र ने कोर्ट में सरेंडर किया था। आरोपी को जेल भेज दिया गया है। पिछले तीन दिनों से उसकी तलाश में पुलिस की दो टीमें फतेहपुर में खाक छान रही थी। इसके बावजूद आरोपी पुलिस को चकमा देने में सफल रहा। 

रेलबाजार निवासी छात्रा (19) की 29 दिसंबर को दुष्कर्म के बाद हत्या कर दी गई थी। पुलिस ने वारदात का खुलासा कर साथी छात्र सोमनाथ गौतम व सत्यम को गिरफ्तार कर जेल भेजा था। एक आरोपी फतेहपुर निवासी रावेंद्र तब से फरार था। पुलिस की दो टीमें फतेहपुर में दबिशें दे रही थीं।

गुरुवार दोपहर रावेंद्र ने कोर्ट में आत्मसमर्पण कर दिया। सूत्रों के अनुसार पुलिस को सरेंडर की सूचना पहले ही मिल गई थी। पुलिस ने आरोपी को पकड़ने के लिए फील्डिंग भी लगा ली थी, लेकिन वह हाथ में नहीं आया

एसीपी कैंट मृगांक शेखर पाठक ने बताया कि रावेंद्र से विवेचक जेल में पूछताछ करेगा। उधर, सपा नेता डॉ. इमरान समेत अन्य सपाई पीड़ित परिजनों से मिले। उसके बाद एसीपी कैंट से मिलकर मामले में आरोपियों के खिलाफ सत से सख्त कार्रवाई की मांग की।

पुलिस के मुताबिक दो से तीन बजे के बीच छात्रा की हत्या की और शाम सवा छह बजे शव फेंका। यानी आरोपी कार में ही शव डालकर तीन से साढ़े तीन घंटे तक इधर-उधर घूमते रहे थे। जब अंधेरा हो गया। पुल के पास सुनसान नजर आया तब उन्होंने शव ठिकाने लगाया था।