हॉस्पिटल की करतूत,सड़क पर करवा दिया नेत्रदान

 अब डीएम ने ले लिया है ऐक्शन

 
 नेत्र
 हॉस्पिटल,नेत्रदान,पटना

पटना में राजेंद्र नगर के अशोक अस्पताल ने अपनी करतूत से सभी निजी अस्पतालों की साख पर ही बट्टा लगा दिया है। आखिर में जब इसकी खबर जिला प्रशासन को मिली तो पटना के डीएम ने पूरे मामले को गंभीरता से लेते हुए अशोका हॉस्पिटल राजेंद्रनगर के खिलाफ कड़े ऐक्शन के निर्देश जारी कर दिए गए हैं। पूरे मामले की जांच के लिए 3 सदस्यों की टीम बनाकर 24 घंटे के भीतर रिपोर्ट देने का निर्देश भी दे दिया गया है।

अशोका हॉस्पिटल राजेंद्रनगर में भर्ती मरीज हरजीत कौर की मृत्यु अस्पताल में ही हो गई। मृतक के नेत्रदान की प्रक्रिया पूरी कराने हेतु परिजनों की ओर से संपर्क करने के बाद दधीचि देहदान समिति पटना और आईजीआईएमएस की टीम अशोका हॉस्पिटल पहुंची। मृतक के परिजन तथा देहदान समिति की टीम ने अस्पताल में ही नेत्रदान की प्रक्रिया पूरी कराने के लिए बार-बार अग्रह किया। लेकिन अशोका अस्पताल के मैनेजमेंट ने परिजनों के साथ-साथ टीम से भी बदसलूकी की। अंत में अस्पताल के बाहर सड़क पर एंबुलेंस में मृतक के नेत्रदान की प्रक्रिया पूरी कर प्रमाण पत्र दिया

पटना जिला प्रशासन ने अस्पताल प्रबंधन के इस कृत्य न केवल गैर जिम्मेदाराना बल्कि चिकित्सा नैतिक मानदंड एवं देहदान जैसी मानवतावादी मूल्यों के खिलाफ माना। जिला प्रशासन ने कहा कि अशोक अस्पताल ने मृतात्मा के शव का भी अपमान किया है।