प्रयागराज सामूहिक हत्याकांड के 10 आरोपियों की DNA रिपोर्ट आई सामने।

यूपी पुलिस की जांच से परिवारजनों को नही है भरोसा।
 
up police

प्रयागराज: फाफामऊ सामूहिक हत्याकांड में लगातार नए खुलासे हो रहे हैं। पुलिस की जांच डीएनए रिपोर्ट पर टिकी थी कि रिपोर्ट आने से केस और उलझ गया। फाफामऊ गोहरी हत्याकांड के संदिग्ध आरोपियों में से 10 की रिपोर्ट आ गई। डीएनए रिपोर्ट मैच न होने से पुलिस की जांच अब उलझ गई। अभी जेल में बंद चार आरोपियों का जांच रिपोर्ट आनी बाकी है। डीएनए रिपोर्ट के आधार पर हत्याकांड की कहानी साफ कर देती है, लेकिन रिपोर्ट नेगेटिव आने से परिजनों का आरोप कमजोर साबित हो रहा है। वहीं दूसरी ओर जेल में बंद आरोपियों की डीएनए रिपोर्ट के आधार पर अब जांच को आगे बढ़ाया जाएगा।

25 अक्टूबर को हुई थी घटना

फाफामऊ थाना क्षेत्र के अंतर्गत गोहरी गांव में एक ही परिवार के चार सदस्यों की सामूहिक हत्या किया गया था। किशोरी के साथ दुष्कर्म किया गया था। मृतकों के परिजनों ने गांव के रहने वाले कुछ लोगों के ऊपर हत्या और दुष्कर्म का मुकदमा दर्ज कराया था। मामले में लड़की शरीर से लिये गए सैम्पल के आधार पर नामजद आरोपियों का सैम्पल लिया गया था। 10 की रिपोर्ट नेगेटिव आने से अब घटना में असली आरोपी कौन ये पता लगाना मुश्किल काम है। घटना में अन्य जेल में बंद चारों आरोपियों का सैम्पल जांच के लिए भेजा गया है। चारों की जांच रिपोर्ट आने से आगे कहानी साफ होगी।

पुलिस के जांच से परिजनों को नहीं है भरोसा

जानकारी के अनुसार मृतक के परिजन लगातार यह गुहार लगा रहे हैं कि पुलिस के जांच पर भरोसा नहीं है। घटना में सीबीआई जांच की लगातार मांग कर रहे हैं। हत्याकांड का इतने दिन बीत जाने के बावजूद असली आरोपी अब तक गिरफ्तार नहीं हुआ है। पुलिस न तो सही जांच कर रही है और न ही घटना में शामिल लोगों से पूछताछ कर रही है। जबतक सीबीआई जांच नहीं होगी तब तक असली कातिल नहीं पकड़ में आएगा।