मुकुल रॉय के बेटे ने पोस्ट कर BJP को इशारों-इशारों में दी नसीहत

मुकुल रॉय के बेटे ने पोस्ट कर BJP को इशारों-इशारों में दी नसीहत

ऐसा लग रहा है कि अब पश्चिम बंगाल में हार के बाद स्थानीय बीजेपी नेताओं की नाराज़गी सामने आने लगी है। बीजेपी नेता मुकुल रॉय के बेटे शुभ्रांशु रॉय ने एक फेसबुक पोस्ट में अपनी पार्टी की आलोचना की है। उन्होंने लिखा है कि चुनी हुई सरकार की आलोचना करने से पहले पार्टी को आत्ममंथन की जरूरत है। उनके इस फेसबुक पोस्ट के बाद तरह-तरह की अटकलें लगाई जा रही है। बीजेपी नेता मुकुल रॉय के बेटे शुभ्रांशु रॉय ने शनिवार रात एक फेसबुक पोस्ट में लिखा, 'लोगों के समर्थन से आई सरकार की आलोचना करने से पहले आत्ममंथन करने की जरूरत है। चुनी हुई सरकार की आलोचना करना बंद करें और आत्मनिरीक्षण करें।'

बता दें कि शुभ्रांशु रॉय ने वर्ष 2019 में तृणमूल कांग्रेस को छोड़कर भाजपा का दामन थामा था। हाल ही में हुए विधानसभा चुनाव में उन्होंने भाजपा की टिकट पर बिजपुर विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ा था, लेकिन हार का सामना करना पड़ा। हाल ही में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चक्रवाती तूफान यास की तबाही का जायजा लेने बंगाल पहुंचे थे, जहां राज्य में उन्होंने समीक्षा बैठक भी की। इस बैठक में राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी 30 मिनट की देरी से पहुंचीं थीं और 20 हजार करोड़ रुपये की सहायता राशि की मांग वाली लिस्ट पीएम को थमाकर निकल गईं। इसको लेकर भाजपा नेताओं ने ममता को जमकर घेरा। इसके बाद ममता बनर्जी ने भी अपनी सफाई दी।

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि ऐसा कहीं जरूरी नहीं है कि एक मुख्यमंत्री हर बार प्रधानमंत्री को रिसीव करने पहुंचे। प्रधानमंत्री को इंतजार कराने वाले मामले पर ममता ने कहा है कि उन्हें खुद पीएम की मीटिंग में इंतजार करना पड़ा। ममता बनर्जी ने बताया कि हम सागर पहुंचे तो हमें सूचना मिली कि हमें 20 मिनट और इंतजार करना होगा क्योंकि पीएम मोदी का हेलिकॉप्टर उतरना बाकी था। वे हमारे शेड्यूल से वाकिफ थे, फिर भी हमें इंतजार करवाया। हमने हेलीपैड पर उनका इंतजार किया। इस घटना के बाद से ही भाजपा ने बंगाल की मुख्यमंत्री को घेरना शुरू कर दिया है। भाजपा ने कहा है कि ममता ने प्रधानमंत्री पद की गरिमा का अपमान किया है और संघीय मॉडल को दरकिनार कर संविधान के खिलाफ काम किया है।