सोमवती अमावस्या के दिन सुहागिनों ने की पूजा अर्चना

 
mp

इस साल की आखिरी सोमवती अमावस्या 30 मई को मनाई जा रही है। इसी खुशी में संतोषी माता मंदिर के समीप पार्क के अंदर लगे पीपल के बृक्ष के नीचे दर्जनों महिलाये पहुँच कर पूजा अर्चना आशीर्वाद प्राप्त किया बता दें कि सुबह से ही सुहागिनों का हुजूम लगा रहा। वहीँ सुहागिनों ने बृक्ष में सात बार परिक्रमा लगा बिधि बिधान से पूजा करती हुई नजर आई।

सौभाग्य की बात तो ये है कि इसी दिन शनि जयंती और वट सावित्री व्रत भी है। ज्योतिषाचार्य के अनुसार साल में एक या दो बार ही सोमवती अमावस्या का शुभ योग बनता है। वहीँ सुहागिन महिलाओं ने बताया कि इस शुभ योग में तीर्थ स्नान कर जरुरतमंदो को दान करने से जीवन में सुख-समृद्धि आती है। महाभारत में भी स्वयं भीष्म पितामह ने युधिष्ठिर को इस तिथि का महत्व बताया था। यह दिन को पितृ दोष के उपाय करने के लिए बहुत ही खास माना गया है।