टैगोर जयंती के अवसर पर आदर्श विद्या मंदिर में सांस्कृतिक कार्यक्रमों के बीच प्रतिभाशाली भैया बहनों का किया सम्मान ।

 
हग


क्रिश जायसवाल । विद्या भारती अखिल भारतीय शिक्षा संस्थान द्वारा संचालित आदर्श विद्या मंदिर केलखेड़ी छीपाबड़ौद की उत्सव एवं जयंती प्रमुख अंतिम गोठानिया ने जानकारी देते हुए बताया कि विद्या मंदिर में आज टैगोर जयंती के उपलक्ष्य में प्रतिभा सम्मान समारोह एवं निष्कर्ष 2022 का आयोजन किया गया । कार्यक्रम का शुभारंभ मुख्य अतिथि प्रियंका शर्मा जिला परिषद सदस्य बारां, अध्यक्षता बृजराज मीणा ढोलम सरपंच प्रतिनिधि व मुख्य वक्ता कन्हैया लाल मेहता विद्या भारती शिक्षा संस्थान बारां के जिला उपाध्यक्ष द्वारा मां सरस्वती के समक्ष दीप प्रज्वलित कर किया गया ।

कार्यक्रम की मुख्य अतिथि ने अपने वक्तव्य में कहा कि विद्यार्थी ही हमारे समाज व राष्ट्र की नींव है इस कारण इन्हें मजबूत बनाने हेतु शिक्षा के साथ संस्कारों का होना अत्यंत महत्वपूर्ण है हमें अपने बच्चों को ऐसे ही शिक्षण संस्थान में प्रवेश दिला कर उनके भविष्य को उज्ज्वल बनाना चाहिए । मुख्य वक्ता ने अपने उद्बोधन में कहा कि वर्तमान काल में लॉर्ड मैकाले की शिक्षण पद्धति प्रचलित है जिससे समाज सेवकों की अपेक्षा बाबुओं का निर्माण हो रहा है जो हमारे समाज एवं राष्ट्र की उन्नति में बाधक सिद्ध हो रहे है । ऐसे कठिन समय में विपरीत धारा के बीच आशा की किरण लेकर विद्या भारती द्वारा विद्यालयों का संचालन कर समाज एवं राष्ट्र भक्त बालकों का निर्माण कर राष्ट्र को विश्व गुरु बनाने के लिए प्रतिबद्ध है ।

कार्यक्रम के अंतर्गत कक्षा में प्रथम द्वितीय व तृतीय स्थान प्राप्त कर अपने माता-पिता व समाज का गौरव बढ़ाने वाले भैया बहनों को स्मृति चिह्न व परिणाम पत्र देकर सम्मानित किया गया जिसे पाकर भैया बहनों के साथ अभिभावकों के चेहरे भी गर्व से चमक उठे । प्रथम स्थान प्राप्त करने वाले भैया बहिन कक्षा अरुण क से प्रिशा गुर्जर,अरुण ख से वंशिका मालव,उदय से प्रियांशु वैष्णव,प्रथमा क से पूनम नागर, प्रथमा ख  से दिव्यांश मीणा, द्वितीया क से मोहित सुमन, द्वितीया ख से अनन्या मालव, तृतीया क से केशव नगर व गर्वित मालव,तृतीय ख से रोशन जिंदल,चतुर्थ क से हंसिका नागर,चतुर्थ ख से कृष्णा मीणा, षष्ठम से लविंश नागर,सप्तम से हरिओम मालव तथा नवम से शिवम नागर ने प्रथम स्थान प्राप्त किया तथा 14 भैया बहिन द्वितीय व 18 भैया बहिन तृतीय स्थान पर रहे ।

सम्मान की कड़ी में वर्षभर विद्यालय में ज्ञान व संस्कारों की सरिता बहाकर श्रेष्ठ व आदर्श भैया बहनों का निर्माण करने के साथ शैक्षिक व सह शैक्षिक गतिविधियों में बढ़-चढ़कर भाग लेने वाले ऐसे ज्येष्ठ श्रेष्ठ आचार्य दीदी जिन्होंने बसंत पंचमी पर सर्वाधिक  नवीन प्रवेश कराए थे उनका भी स्मृति चिह्न व 1100 1100 रुपए की राशि प्रदान कर सम्मानित किए गए । जिनमें पुरुषोत्तम चक्रधारी,राधेश्याम मीणा,महेश शर्मा,कृष्णा प्रजापति,अंतिम गोठानिया,मीनाक्षी सिसोदिया,संजना मित्तल है । कार्यक्रम के मध्य में शारीरिक,योग, देशभक्ति नाटक,एकल व सामूहिक गीत तथा आकर्षक व भव्य सांस्कृतिक कार्यक्रम हुए जिन्हें देखते हुए उपस्थित महानुभावो ने दांतों तले उंगली दबा ली ।

कार्यक्रम का संचालन परीक्षा प्रभारी शानू प्रकाश चक्रधारी ने अतिथि परिचय व सम्मान प्रधानाचार्य हरिसिंह गोचर ने तथा आभार प्रबंध समिति सदस्य दीनदयाल गोयल ने व्यक्त किया । कार्यक्रम को सफल बनाने में पुरुषोत्तम चक्रधारी,सौरव गुर्जर,धीरज नामा,अजय नागर,कोमल वैष्णव,महेश शर्मा,राधेश्याम मीणा ,मीनाक्षी सिसोदिया,ज्योति सुमन,कृष्णा प्रजापति,ऋतु सुमन,मनीषा महावर,संजना मित्तल,सोनम यादव, रुचि देवातवाल आदि का विशेष सहयोग रहा ।