पत्रकारों के लिए मध्यप्रदेश सीएम का अहम ऐलान

पत्रकारों के लिए मध्यप्रदेश सीएम का अहम ऐलान

देश में कोरोना वायरस की दूसरी लहर का कहर जारी है। हर दिन कोविड-19 से होने वाली मौतों का आंकड़ा कम होने का नाम नहीं ले रहा। हालांकि दैनिक संक्रमित मामले भले ही लगातार कम हो रहे हों लेकिन मृत्यु दर अभी भी भयावह है। इधर कजाकिस्तान से 56 लाख मास्क भारत पहुंचे। वहीं ऑस्ट्रेलिया से 1056 वेंटिलेटर भारत पहुंचे। गोवा में ऑक्सीजन की कमी से कई मरीजों की मौत होने के चलते गोवा फॉरवर्ड पार्टी ने मुख्यमंत्री सावंत के खिलाफ शिकायत दर्ज कर दी है। मध्यप्रदेश में कोरोना संक्रमित पत्रकारों और उनके परिवार वालों का खर्चा राज्य सरकार उठाएगी।

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शुक्रवार को घोषणा की कि प्रिंट, इलेक्ट्रॉनिक व डिजिटल मीडिया के पत्रकारों के कोविड-19 संक्रमण के इलाज का खर्च राज्य सरकार वहन करेगी। मुख्यमंत्री ने कहा, 'मीडिया के पत्रकारों व उनके परिवार के कोविड-19 इलाज संबंधित तमाम खर्च का वहन राज्य सरकार करेगी।'

उन्होंने कहा कि मीडिया के पत्रकार साथी दिन रात अपने पत्रकारिता धर्म का निर्वहन कर रहे हैं। राज्य में पत्रकार बीमा योजना के तहत अधिमान्य व गैर अधिमान्य पत्रकारों के इलाज की सुविधा है। अब यदि पत्रकार या उनके परिवार का कोई सदस्य संक्रमित होता है तो उनके इलाज का खर्च राज्य सरकार उठाएगी। 

इससे पहले मुख्यमंत्री ने महामारी के कारण अनाथ हुए बच्चों के लिए भी पेंशन का ऐलान किया था। उन्होंने कहा था, 'महामारी ने कई परिवारों को तोड़कर रख दिया। कई परिवार ऐसे हैं, जिनके बुढ़ापे का सहारा छिन गया और कुछ ऐसे बच्चे हैं, जिनके सिर से पिता का साया उठ गया है। वे बच्चे, जिनके पिता, अभिभावक का साया उठ गया और कोई कमाने वाला नहीं है, इन परिवारों को रु.5000 प्रतिमाह पेंशन दी जाएगी।'