68 साल के बुजुर्ग पिता ने मांगी सुरक्षा

बुजुर्ग को मिला लोकल थाने का नंबर
 
 बुजुर्ग पिता
68 साल, सुरक्षा, सीनियर सिटिजन

एक 68 साल के व्यक्ति ने अपनी बेटी पर पिटाई का आरोप लगाते हुए दिल्ली हाई कोर्ट से सुरक्षा की मांग की। सीनियर सिटिजन के मुताबिक, उनकी बेटी अपने पति का घर छोड़कर इनके साथ रहती है और इनके साथ-साथ घर के बाकी सभी सदस्यों को कथित तौर पर परेशान कर रही है।

याचिकाकर्ता ने पश्चिम विहार थाने की पुलिस को यह निर्देश देने का कोर्ट से अनुरोध किया था कि वह इनकी 18 मार्च 2021 में दी गई शिकायत पर एफआईआर दर्ज करे। इसके अलावा, अन्य मांगों में एक यह भी थी कि वह विवाद के निपटारे तक उन्हें और घर के दूसरे सदस्यों को प्रतिवादी बेटी से सुरक्षा दिलाए जाने के लिए पुलिस को जरूरी निर्देश जारी करे। याचिकाकर्ता के मुताबिक, उन्हें उनकी एक बेटी लगातार परेशान कर रही है, जो पति का घर छोड़कर इनके साथ रह रही है। दावा किया कि बेटी ने याचिकाकर्ता, उनकी पत्नी और अपनी बहन के साथ मारपीट भी की है। 

जस्टिस सुब्रमण्यम प्रसाद की बेंच ने जांच अधिकारी को निर्देश दिया कि वह बुजुर्ग को बीट कॉन्स्टेबल और स्थानीय पुलिस थाने के एसएचओ का मोबाइल नंबर उपलब्ध कराए, ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि याचिकाकर्ता को किसी तरह का नुकसान न पहुंचे जो 68 साल का एक बुजुर्ग है और तमाम तरह की बीमारियों से ग्रसित भी। कोर्ट ने कहा कि याचिकाकर्ता चाहे तो वह मेंटिनेंस एंड वेलफेयर ऑफ पैरंट्स एंड सीनियर सिटिजंस एक्ट, 2007 के तहत सक्षम प्राधिकार में अप्रोच कर सकता