जानिये कब दिखाई देगा साल का तीसरा और आखिरी सूर्यग्रहण?

Public Route Share
  • 26 दिसंबर को इस साल अमावस्या पर साल का तीसरा और आखिरी सूर्यग्रहण होगा। ये सूर्यग्रहण उत्तरी-पश्चिमी ऑस्ट्रेलिया,  पूर्वी अफ्रीका और पूर्वी यूरोप और एशिया में दिखाई देगा। इसे लेकर कई धार्मिक मान्यता भी हैं। 
  • कहा जा रहा है कि आंशिक सूर्यग्रहण सुबह करीब  8.04 मिनट से शुरू होगा। इसके बाद 9बजकर 24 मिनट पर चंद्रमा सूर्य के किनारें को ढकना शुरु कर देगा। इसके बाद कहीं जाकर 9.26 मिनट पर पूर्ण सूर्यग्रहण दिखाई देगा। 11 बजकर 5 मिनट पर ये खत्म भी हो जाएगा। 
  • दरअसल पृथ्वी सूर्य के चक्कर लगाती है और चांद पृथ्वी के चक्कर लगाता है। इस प्रक्रिया के दौरान कभी-कभी चांद सूरज और पृथ्वी के बीच में आ जाता है। इससे सूरज का कुछ या सारा हिस्सा ढक जाता है जिस कारण सूर्य की रोशनी धरती तक नहीं आती। इसे ही सूर्यग्रहण कहा जाता है। तब चांद पूरी तरह से सूर्य को ढक लेता है तो इसे पूर्ण सूर्यग्रहण कहते हैं। 
  • धार्मिक मान्यता के अनुसार, जब अमृत मंथन में देवताओं और दानवों के बीच लड़ाई हो रही थी। तब भगवान विष्णु ने मोहनी का रुप लेकर देवताओं और दानवों को अलग-अलग बैठा दिया था। हालांकि, कुछ दानव छुपके से देवताओं की लाइन में आकर बैठ गए थे।
  • अमृत बांटते वक्त दानवों की इस हरकत को सूर्य और चांद ने देख लिया था। दोनों ने भगवान विष्णु को इसकी जानकारी दी उन्होंने अपने सुदर्शन चक्र से दानवों के सिर और धड़ अलग कर दिए। लेकिन फिर भी वो मरे नहीं सिर वाला हिस्सा राहु और धड़ वाले हिस्से को केतु कहते हैं। कहा जाता है कि राहु और केतु सूर्य और चंद्रमा को अपना दुश्मन मानते हैं। 

हर महीने के कृष्ण पक्ष में आने वाली अमावस्या काफी अहम होती है। ऐसी भी मान्यता है कि इस दिन बुरी शक्तियां सक्रिय होती हैं। इसलिए अमावस्या के दिन नकारात्मक विचारों से दूर रहना चाहिए। पितृदोष से मुक्ति पाने के लिए इस दिन स्नान-दान इत्यादि करना जरुरी होता है। मान्यता ये है कि ऐसा करने से फल मिलता है। 

Loading...
Loading...
Author Image
jaya verma

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *