कश्मीर और 370: बिल पेश करते वक्त अमित शाह के मन में था डर, खुद किया खुलासा

Share A Public Route
Loading…

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा है कि जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद-370 को खत्म करने वाले बिल को पेश करने के दौरान उनके मन में डर था. चेन्नई में एक कार्यक्रम में अमित शाह ने कहा कि इस बिल को पेश करते वक्त उनके मन में आशंका थी कि जब वे इस बिल को राज्यसभा में पेश करेंगे तो राज्यसभा चलेगी कैसे?

जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद-370 के खत्म होने के बाद केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने पहली प्रतिक्रिया दी है. केंद्रीय गृह मंत्री ने कहा है कि जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद-370 को खत्म करने वाले बिल को पेश करने के दौरान उनके मन में डर था. अमित शाह ने कहा कि बतौर गृहमंत्री उनके मन में इस बात को लेकर कोई शंका नहीं था कि जम्मू-कश्मीर से संविधान का ये प्रावधान खत्म होना चाहिए. चेन्नई में एक कार्यक्रम में अमित शाह ने कहा कि इस बिल को पेश करते वक्त उनके मन में आशंका थी कि जब वे इस बिल को राज्यसभा में पेश करेंगे तो राज्यसभा चलेगी कैसे?

चेन्नई में राज्यसभा के सभापति वेंकैया नायडू की जिंदगी पर एक किताब “Listening, Learning and Leading” का विमोचन करते हुए अमित शाह ने कहा, “आंध्र के विभाजन का दृश्य आज भी देश की जनता के सामने है…मुझे मन में थोड़ा आशंका थी कि कहीं ऐसे दृश्य का हिस्सेदार मैं भी तो नहीं बनूंगा…यही भाव के साथ…यही डर के साथ मैं राज्यसभा में खड़ा हुआ…वेंकैया जी की कुशलता का ही परिणाम है कि सभी विपक्ष के मित्रों को सुनते-सुनते इस बिल को डिवीजन तक कहीं भी कोई ऐसा दृश्य खड़ा नहीं हुआ जिसके कारण देश की जनता को ये लगे कि उच्च सदन की गरिमा नीचे आई है.”

इससे पहले अमित शाह ने कहा कि राज्यसभा में हमारा पूर्ण बहुमत नहीं है, फिर भी मैंने तय किया था कि बिल पहले हम राज्यसभा में लेकर जाएंगे, उसके बाद लोकसभा में लेकर जाएंगे.

अमित शाह ने कहा कि एक सांसद होने के नाते उन्हें पुख्ता यकीन है कि आर्टिकल-370 को जम्मू-कश्मीर से बहुत पहले खत्म हो जाना चाहिए था. गृह मंत्री के नाते उनके दिमाग में इस बात को लेकर कोई भ्रम नहीं था कि इस प्रावधान को हटाने के क्या संभावित नतीजे हो सकते हैं. अमित शाह ने कहा कि उन्हें विश्वास है कि अब कश्मीर से आतंकवाद खत्म होगा और कश्मीर विकास की दिशा में आगे बढ़ेगा.

इस दौरान गृह मंत्री अमित शाह ने कहा, ये विधि का ही विधान है जो बाल वेंकैया नायडू ने 370 के खिलाफ आंदोलन किया था और जब अनुच्छेद 370 हटाने का प्रस्ताव आया तब वेंकैया जी राज्यसभा के चेयरमैन के नाते उसकी अध्यक्षता कर रहे थे. अमित शाह ने एक घटना का जिक्र करते हुए कहा कि एक बार एक कम्युनिस्ट प्रोफेसर ने वेंकैया नायडू से पूछा कि आपने कश्मीर कभी देखा है क्या? कश्मीर नहीं देखा है तो क्यों आंदोलन करते हो? वेंकैया जी ने जवाब दिया कि एक आंख दूसरी आंख को दिखाई नहीं देती, एक आंख में दर्द होता है तो दूसरी आंख को भी तुरंत महसूस होता है.

Loading…

shishir Vishwakarma

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

70 साल बाद भी इतनी सुंदर, करे ये उपाय।

Tue Aug 13 , 2019
Share A Public Routeग्‍लूटेथियोन का स्‍तर बढ़ायें ग्‍लूटेथियोन आपके शरीर का सबसे मजबूत एंटी-ऑक्‍सीडेंट है। इस एंटी-ऑक्‍सीडेंट की सबसे खास बात यह है कि यह कैंसर से शरीर को बचाता है। अगर शरीर में इसका स्‍तर कम हो जाये तो कई प्रकार की घातक बीमारियां होने लगती हैं। खानपान के […]

खा़स आर्टिकल सिर्फ आप के लिये।

Loading…

Subscribe Please