Trending: चर्चा में है 'शैतानी जूता', बनाने में हुआ इंसानी खून का इस्तेमाल!

Trending: चर्चा में है 'शैतानी जूता', बनाने में हुआ इंसानी खून का इस्तेमाल!

Trending: चर्चा में है 'शैतानी जूता', बनाने में हुआ इंसानी खून का इस्तेमाल!

रिपोर्टर :- लवकुश वर्मा, नई दिल्ली: मशहूर अमेरिकी सिंगर और रैपर लिल नेस (Lil Nas X) फिलहाल गलत वजह से सुर्खियों में हैं. चौतरफा आलोचना की वजह उनका एक फुटवियर कंपनी से हुआ करार है. जिसने इस विवाद को खड़ा कर दिया है. देश के रूढ़िवादी लोगों ने भी इस प्रकरण पर नाराजगी जताई है. विवाद की जड़ में उनके लेटेस्ट कमर्शियल टाइअप है जो MSCHF कंपनी के साथ किया है.

इसी ब्रांड के एक जोड़ी 'शैतानी जूतों' साटन शूज (Satan Shoes) ने उन्हें लोगों के गुस्से का शिकार बना दिया. दरअसल इन जूतों को लेकर दावा किया गया है कि उनमें ह्यूमन ब्लड यानी इंसानों का खून है. विवाद की वजह कंपनी ने बिक्री के लिए सोमवार का दिन चुना है. इस दौरान 666 जोड़ी जूते बिक्री के लिए बाजार में मौजूद होंगे. वहीं ये भी जरूरी नहीं है कि लोग अपने जूतों में इंसानी खून के इस आइडिये को पसंद करें. ये जूते Nike Air Max 97s को मोडिफाई करके बनाए गए हैं. जिनके ऊपरी हिस्से में प्राचीन किताबों में वर्णित पेंटाग्राम पेंडेंट भी लगा है. मॉडल की थीम बाइबल से भी जोड़ी गयी है.

विवादित कारणों से सुर्खियों में बने इस एक जोड़ी जूते की कीमत करीब 74,500 रुपए है. Nike ने झाड़ा पल्ला शू निर्माता कंपनी ने बताया कि ये इंसानी खून का इस्तेमाल जूतों के सोल में हुआ है. बात बढ़ी तो इंटरनेट की दुनिया में दूर तक गई फिर नेटिजंस ने जूतों को लेकर नाइकी (Nike), MSCHF और लिल नेस को जमकर फटकार लगाई. इसके बाद Nike ने पूरे प्रकरण से दूरी बनाते हुए बयान जारी किया.

अपने बयान में कंपनी ने कहा, ' हमारा लिटिल नेस एक्स या MSCHF से कोई रिश्ता नहीं है. Nike ने न तो इन जूतों को डिजाइन किया है और न ही इन्हें लॉन्च किया है. इसी के साथ हम इसका प्रचार और समर्थन भी नहीं करते है.'लिटिल नेस की सफाई इस बीच Lil Nas ने प्रशंसकों से माफी मांगी है जिन्होंने जूते के लिए इस आइडिये को पसंद नहीं करते हैं उन्होंने एक वीडियो भी जारी किया. हालांकि असल में इस वीडियो में कोई माफी नहीं मागी गई है और इस वीडियो को बहुत से लोगों ने आलोचनाओं से बचने का एक व्यंगात्मक तरीका बताया है. इसमें विवादित जूतों की रिलीज को एक इत्तेफाक अजीब घटनाक्रम ठहराने की कोशिश की गई है.