हाथरस काण्ड. एसपी डीएम समेत कई पुलिस कर्मी सस्पेंड

हाथरस काण्ड. एसपी डीएम समेत कई पुलिस कर्मी सस्पेंड

हाथरस काण्ड. एसपी डीएम समेत कई पुलिस कर्मी सस्पेंड
*हाथरस कांड: SP और DSP और इंस्पेक्टर पर गिरी गाज, किए गए सस्पेंड* हाथरस गैंगरेप कांड में चारों तरफ से हो रही फजीहत के बाद योगी सरकार हरकत में आ गई है। सरकार ने कार्रवाही करते हुए हाथरस के SP और DSP और इंस्पेक्टर को निलंबित कर दिया है। तीनो अधिकारियों का नारको टेस्ट भी किया जाएगा। इन अधिकारियों पर आरोप है कि इन्होने सही तरीके से पूरे मामले को हैंडल नही किया है। इस प्रशासनिक लापरवाही से मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ बेहद नाराज थे। जिसके चलते अधिकारियों पर गाज गिरी। आपको बता दें कि इस पूरे केस में हाथरस के एसपी, DSP और इंस्पेक्टर पर जिस तरह से कार्रवाई की है। घटना के बाद से ही वह मीडिया के निशाने पर थे। DM प्रवीण कुमार पर तो गैंगरेप पीड़िता के परिवार ने गंभीर आरोप भी लगाए हैं। पीड़िता के परिजनों ने प्रशासन पर धमकाने और दबाव डालने का आरोप भी लगाया था। इसी से संबंधित एक वीडियो गुरूवार को सामने आया था, जिसमें हाथरस के डीएम पीड़ित परिवार को धमकी देते दिख रहे थे। हाथरस के डीएम कह रहे हैं कि मीडिया वाले तो चले जाएंगे, लेकिन प्रशासन को यहीं रहना है। हालांकि डीएम के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गई है। हाथरस के पीड़ित परिवार का कहना था कि उनको धमकाया जा रहा है। केस को रफा-दफा करने के लिए दवाब डाला जा रहा है। अंतिम संस्कार को लेकर भी उठे सवाल पीड़िता के अंतिम संस्कार को लेकर भी हाथरस प्रशासन पर सवाल उठ थे। पीड़िता का रात में अंतिम संस्कार किया गया था। हाथरस प्रशासन इस फैसले पर घिरा हुआ था। बीजेपी के अंदर से ही इस फैसले के खिलाफ आवाज उठ रही थी। केंद्रीय मंत्री साध्वी निरंजन ज्योति ने कहा था कि पीड़िता का शव परिजनों को दिया जाना चाहिए था। आपको बता दें कि 14 सितंबर को हाथरस की लड़की के साथ गैंगरेप हुआ था। आरोप है कि गैंगरेप के बाद आरोपियों ने युवती की जीभ काट दी थी और रीढ़ की हड्डी तोड़ दी थी। पीड़िता की हालत खराब होने के बाद इलाज के लिए उन्हें दिल्ली ले जाया गया था। मंगलवार की सुबह उन्होंने सफदरजंग अस्पताल में दम तोड़ दिया। प्रदेश की पुलिस पर मामले में लीपापोती का आरोप लगा है। ADG ने कहा नही हुआ रेप पूरे मामले में जहां डीएम और एसपी कार्रवाही की गई तो वही एडीजी लॉ एंड ऑर्डर प्रशांत कुमार तो दावा कर रहे हैं कि युवती के साथ रेप हुआ ही नहीं। उन्होंने बताया कि युवती की मौत गले में चोट लगने और उसके कारण हुए सदमे की वजह से हुई थी। फॉरेंसिक साइंस लैब की रिपोर्ट से भी यह साफ जाहिर होता है कि उसके साथ बलात्कार नहीं हुआ। योगी ने ट्वीट कर अपराधियों को दिया कड़ा संदेश इस बीच, सीएम योगी आदित्यनाथ ने अपराधियों को कड़ी संदेश दिया है। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में माताओं-बहनों के सम्मान-स्वाभिमान को क्षति पहुंचाने का विचार मात्र रखने वालों का समूल नाश सुनिश्चित है। इन्हें ऐसा दंड मिलेगा जो भविष्य में उदाहरण प्रस्तुत करेगा। आपकी यूपी सरकार प्रत्येक माता-बहन की सुरक्षा व विकास हेतु संकल्पबद्ध है। यह हमारा संकल्प है-वचन है