यूपी में 7 चरणों में मतदान,15 जनवरी तक जनसभाओं में रोक, 10 मार्च को मतगणना, जानिए पूरा शेड्यूल।

 
Election 2022

भारत निर्वाचन आयोग (Election Commission of India) ने उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव (Uttar Pradesh Vidhan Sabha Chunav 2022) की तारीखों का ऐलान कर गया है। यूपी में सात चरणों में मतदान होगा। चुनावी बिगुल बजने से साथ ही राज्य में आदर्श आचार संहिता (Model Code Of Conduct) भी लागू हो गई है। यूपी में 10 फरवरी को पहले चरण का चुनाव होगा। पांच राज्यों में कुल 7 चरणों में चुनाव होंगे। 10 मार्च को मतगणना होगी। यूपी में फिलहाल भाजपा की सरकार है। 

वोट डालने का समय 1 घंटे बढ़ाया गया

मुख्य चुनाव आयुक्त सुशील चंद्रा ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर शनिवार को बताया कि कोरोना गाइडलाइंस के साथ चुनाव कराए जाएंगे। समय पर चुनाव कराना हमारी जिम्मेदारी है। सभी चुनाव कर्मियों को वैक्सीन की दोनों डोज लगी होगी। साथ ही चुनाव में लगे कर्मचारियों को बूस्टर डोज लगेगी। यूपी में 90 प्रतिशत लोगों को कोरोना वैक्सीन की पहली डोज लग चुकी है। पोलिंग बूथ पूरी तरह सैनेटाइज होंगे। वोट डालने का समय एक घंटे बढ़ाया गया है। 

  • मतदान कब-कब? 10 फरवरी को पहला चरण, 14 फरवरी को दूसरा चरण, 20 फरवरी को तीसरा चरण, 23 फरवरी को चौथा चरण, 27 फरवरी को पांचवा चरण, 3 मार्च को छटवां चरण, और 7 मार्च को अंतिम चरण का मतदान होगा। 
  • मतगणना- 10 मार्च 2022 को होगी

उत्तर प्रदेश चुनाव 2022: पहला चरण

  • अधिसूचना - 14 जनवरी 
  • नामांकन की आखिरी तारीख - 21 जनवरी
  • नामांकन की जांच - 24 जनवरी
  • नाम वापसी - 27 जनवरी
  • मतदान - 10 फरवरी
  • उत्तर प्रदेश चुनाव 2022: दूसरा चरण

  • अधिसूचना - 21 जनवरी 
  • नामांकन की आखिरी तारीख - 28 जनवरी
  • नामांकन की जांच - 29 जनवरी
  • नाम वापसी - 31 जनवरी
  • मतदान - 14 फरवरी 
  • उत्तर प्रदेश चुनाव 2022: तीसरा चरण

  • अधिसूचना- 25 जनवरी 
  • नामांकन की आखिरी तारीख- 1 फरवरी
  • नामांकन की जांच- 2 फरवरी
  • नाम वापसी- 4 फरवरी
  • मतदान- 20 फरवरी
  • उत्तर प्रदेश चुनाव 2022: चौथा चरण

  • अधिसूचना- 27 जनवरी 
  • नामांकन की आखिरी तारीख- 3 फरवरी
  • नामांकन की जांच- 4 फरवरी
  • नाम वापसी- 7 फरवरी
  • मतदान- 23 फरवरी
  • उत्तर प्रदेश चुनाव 2022: पांचवा चरण

  • अधिसूचना- 1 फरवरी
  • नामांकन की आखिरी तारीख- 8 फरवरी
  • नामांकन की जांच- 9 फरवरी
  • नाम वापसी- 11 फरवरी
  • मतदान- 27 फरवरी
  • उत्तर प्रदेश चुनाव 2022: छठवां चरण

  • अधिसूचना- 4 फरवरी
  • नामांकन की आखिरी तारीख- 11 फरवरी
  • नामांकन की जांच- 14 फरवरी
  • नाम वापसी- 16 फरवरी
  • मतदान- 3 मार्च
  • उत्तर प्रदेश चुनाव 2022: सातवां चरण

  • अधिसूचना- 10 फरवरी
  • नामांकन की आखिरी तारीख- 17 फरवरी
  • नामांकन की जांच- 18 फरवरी
  • नाम वापसी- 21 फरवरी
  • मतदान- 7 मार्च
  • 15 जनवरी तक जनसभाओं पर रोक लगाई गई

    चुनाव आयोग ने 15 जनवरी तक रोड शो, पदयात्रा, रैली, जनसभा, नुक्कड़ सभा और बाइल रैली आदि पर रोक लगा दी है। आयोग ने कहा कि उम्मीदवार केवल डिडिटल और वर्चुअल तरीके से चुनाव प्रचार कर सकेंगे। जीत के बाद विजय जुलूस पर भी रोक रहेगी। डोर टू डोर कैंपेन में सिर्फ 5 लोगों को इजाजत होगी। रात 8 बजे के बाद चुनाव प्रचार पर रोक रहेगी। 

    सभी उम्मीदवारों को क्रिमिनल रिकॉर्ड बताना होगा- चुनाव आयोग

    मुख्य चुनाव आयुक्त सुशील चंद्रा ने आगे बताया कि 5 जनवरी को मतदाता सूची प्रकाशित हुई। 24.9 लाख मतदाता पहली बार वोट डालेंगे, महिला वोटरों की भागीदरी बढ़ी है। 5 राज्यों में इस बार 18.34 करोड़ मतदाता वोट डालेंगे। यूपी में 29 प्रतिशत मतदाता पहली बार वोट डालेंगे। पोलिंग बूथ ग्राउंड फ्लोर पर बनाए जाएंगे। पोलिंग स्टेशन में 16 प्रतिशत की बढ़ोतरी की गई है, कुल 2 लाख 15 हजार 368 पोलिंग बूथ होंगे। 1620 पोलिंग स्टेशन पर सिर्फ महिला कर्मचारी रहेंगी। सभी पोलिंग स्टेशन पर व्हील चेयर की व्यव्स्था होगी। हर बूथ पर 1250 मतदाता वोट डाल सकेंगे। 80 प्लस, दिव्यांग और कोविड प्रभावित के लिए पोस्टल बैलेट की व्यवस्था की गई है। चुनाव आयोग ने कहा कि उम्मीदवारों के लिए आपराधिक रिकॉर्ड की जानकारी देना जरूरी होगा। साथ ही राजनीति दलों के लिए आपराधिक केस बताना अनिवार्य होगा। सभी कार्यक्रमों की वीडियोग्राफी होगी। 

  • उम्मीदवार ऑनलाइन नामांकन भी भर सकते हैं

    मुख्य चुनाव आयुक्त सुशील चंद्रा ने बताया कि करीब 900 ऑब्जर्वर चुनाव पर नजर रखेंगे। चुनाव में पैसे के दुरुपयोग पर जीरो टॉलरेंस को अपनाया गया है। गैरकानूनी पैसे, शराब पर कड़ी नजर रखी जाएगी। सभी एजेंसियों को अलर्ट कर दिया गया है। उम्मीदवार ऑनलाइन नामांकन कर सकेंगे। संवेदनशील बूथों की वेब कॉस्टिंग होगी। चुनाव में धांधली रोकने व सभी राजनीतिक दलों के लिए सुविधा एप बनाया गया है। चुनाव की अधिसूचना तत्काल प्रभाग से लागू कर दी गई है। C Vigil ऐप पर चुनाव को लेकर वोटर किसी भी तरह की शिकायत दर्ज करा सकेंगे। उम्मीदवार ऑनलाइन नामांकन भी भर सकते हैं। सुविधा एप के जरिए ऑनलाइन नामांकन हो सकेगा। चुनाव नियमों के उल्लंघन पर सख्ती होगी। वोटर को पहली बार चुनाव नियमों की पर्ची दी जाएगी। आयोग ने कहा कि कोरोना महामारी से निकलने का यकीन जरूरी है।

    जानिए 2017 में क्या हुआ था

    उत्तर प्रदेश में कुल 403 विधानसभा सीटें हैं, पिछला विधानसभा चुनाव फरवरी-मार्च 2017 में हुआ था। बीजेपी की अगुवाई में एनडीए 325 सीटें जीतकर सत्ता में आयी थी। इसमें से अकेले बीजेपी ने 384 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारे थे जिसमें 312 सीटों पर जीत दर्ज की। वहीं बीजेपी गठबंधन की अन्य दो पार्टियों में अपना दल (सोनेलाल) ने 11 सीटों में नौ सीटें और भारतीय सुहेलदेव समाज पार्टी ने आठ में से चार सीटें जीती थीं।

    वहीं मुख्य विपक्षी दल के रूप में सपा और कांग्रेस को जनता ने पूरी तरह से नकार दिया था, तब इस गठबंधन को मात्र 54 सीटों के साथ संतोष करना पड़ा था। कांग्रेस को चुनाव में 114 सीटों में केवल सात सीटों पर जीत मिली थी, वहीं समाजवादी पार्टी को 311 सीटों में से केवल 47 सीटों पर जीत मिली थी। बहुजन समाजवादी पार्टी को भी 403 सीटों में से मात्र 19 सीटों पर संतोष करना पड़ा था।

    उत्तर प्रदेश विधानसभा का कार्यकाल 14 मई 2022 को पूरा हो रहा है, ऐसे में 14 मई से पहले हर हाल में विधानसभा और नई सरकार के गठन की प्रकिया पूरी होनी है। योगी आदित्यनाथ ने 19 मार्च 2017 को मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी। सीएम योगी बीजेपी के पहले सीएम हैं, जिन्होंने उत्तर प्रदेश में पांच साल का कार्यकाल पूरा किया है।