RSS और BJP में दरार : सरकार का कंट्रोल हमारे हाथ मे नही।

 
RSS

हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा जिला प्रवास के तीसरे दिन शनिवार को राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) प्रमुख मोहन भागवत ने सार्वजनिक कार्यक्रम में हिस्सा लेकर संघ की पीड़ा जाहिर की। उन्होंने कहा कि सत्ता का रिमोट कंट्रोल संघ के पास नहीं है। यह आरोप निराधार है। धर्मशाला कॉलेज के सभागार में आयोजित पूर्व सैनिक प्रबोधन कार्यक्रम के दौरान उन्होंने कहा कि पिछले 96 वर्ष से आरएसएस का हमेशा विरोध हुआ। लेकिन हम समाज की सेवा में लगे रहे। संघ को तो थोड़ी राहत तब मिली - जब स्वयंसेवक सत्ता में आए। सब बाधाओं को पार कर 96 साल से आरएसएस समाज सेवा करते हुए आगे बढ़ता गया। 

चीन और पाकिस्तान को संदेश देते हुए परोक्ष रूप से भागवत ने कहा कि भारत की तरफ से कभी किसी से दुश्मनी नहीं रही है। लेकिन दुनिया में दुश्मन होते हैं। कोई दुश्मनी करे तो झुकना नहीं है बल्कि दुश्मन को दबाकर आगे बढ़ना है। उन्होंने कहा कि सैन्य तैयारी को लेकर हमारी सेना की अमेरिका और चीन जैसे देशों से तुलना हो सकती है, लेकिन हौसला, हिम्मत और ताकत के मामले में भारत का सैनिक दुनिया भर में अव्वल है। यह ताकत भारतीय सिपाही में शारीरिक प्रशिक्षण से नहीं बल्कि मन से आती है। भारतीय सैनिक वीरता से लड़ता है। वह सीमा पर काम पूरा करता है या मरता है। आरएसएस पूर्व सैनिकों की चिंता करता है। आरएसएस में पूर्व सैनिक सेवा परिषद संगठन है जो सैन्य परिवारों से संघ की विचारधारा साझा करता है। 

हजारों सालों से सभी भारतीयों का डीएनए एक; धर्म का अर्थ धारणा, हिंदू-मुस्लिम नहीं
भागवत ने हिंदुत्व पर भी खुलकर बोला। उन्होंने कहा कि कुछ शब्द हमारे जीवन से चिपक जाते हैं, उन्हें हटाया नहीं जा सकता। हिंदोस्तान से हिंदू शब्द पड़ा। संघ से हिंदुत्व शब्द चिपक गया है। हिंदुत्व किसी को जीतने की बात नहीं करता है। हिंदुत्व शब्द का इस्तेमाल सबसे पहले गुरु नानक देव जी ने किया था। हिंदुत्व जोड़ने की बात करता है, किसी को बांटता नहीं। पिछले 40 हजार सालों से सभी भारतीयों का डीएनए एक है। धर्म का अर्थ धारणा है, जो समाज को जोड़ता है। इसका अर्थ हिंदू और मुस्लिम नहीं होता है। भागवत ने कहा कि हम गुलाम इसलिए हुए क्योंकि हम हमेशा बंटे रहे। 

सीडीएस रावत को दी श्रद्धांजलि 
मोहन भागवत ने कार्यक्रम में हेलिकाप्टर क्रैश हादसे में मारे गए देश के पहले सीडीएस बिपिन रावत, उनकी पत्नी व अन्य सैन्य अधिकारियों को श्रद्धांजलि दी। कार्यक्रम में एक मिनट का मौन रखा गया। मौन के बाद मंत्रोच्चारण के साथ दिवंगत आत्माओं की शांति के लिए प्रार्थना की गई।

संघ युद्धकाल और शांतिकाल में सेना के साथ खड़ा रहा 
विजय दिवस की स्वर्ण जयंती के अवसर पर धर्मशाला के स्नातकोत्तर महाविद्यालय में सरसंघचालक मोहन भागवत ने सैन्य कर्मियों को नमन किया। उन्होंने कहा की भारत की सेना का विश्व में नाम है। सैन्य कर्मियों ने अपने पराक्रम, वीरता और अनुशासन का लोहा मनवाया है। कहा कि संघ युद्धकाल और शांतिकाल में भी सेना के साथ खड़ा रहता है। पूर्व सैनिक भी सेवानिवृत्ति के पश्चात संघ से जुड़ रहे हैं और कई तो कार्यकर्ता भी बने हैं। उन्होंने पूर्व सैनिकों का आह्वान किया कि वे संघ के स्वयंसेवकों के परिवारों में जाएं और अनुभव करें। कार्यक्रम में 601 सैनिकों ने हिस्सा लिया।