32 घंटे मंथन के बाद चुनाव निरस्त करने का लिया फैसला,चुनाव आचार संहिता समाप्त।

 
Election 2022

मप्र राज्य निर्वाचन आयोग ने सरकार के अध्यादेश वापस होने की सूचना के 32 घंटे बाद मंगलवार को चुनाव निरस्त करने का निर्णय लिया है। प्रदेश में आज से चुनाव आचार संहिता भी समाप्त कर दी गई है। चुनाव कब होंगे इस पर अभी फैसला नहीं हो पाया है। ओबीसी आरक्षण के फैसले के बाद आयोग चुनाव कराने के संबंध में निर्णय लेगा। पंचायत चुनाव को लेकर आयोग में मंगलवार को सुबह से देर शाम तक मैराथन बैठकों का दौर चलता रहा, रात आठ बजे आयोग ने चुनाव नहीं कराने का फैसला लिया है। इससे प्रदेश के सवा दो लाख प्रत्याशियों के चुनाव लडऩे की मंशा पर पानी फिर गया।
चुनाव निरस्त होते ही चुनाव प्रक्रिया भी निरस्त कर दी गई है। अभ्यर्थी निर्वाचन कार्यालयों से अपनी धरोहर राशि ले सकेगे। मप्र राज्य निर्वाचन आयुक्त बसंत प्रताप सिंह ने यह निर्णय विधि विशेषज्ञों की राय के बाद निर्णय लिया है। पिछले दो दिनों के अंदर करीब एक दर्जन बार आयोग ने अधिकारियों के साथ बैठकें की। प्रत्याशी भी सरकार और आयोग पर तमाम तरह से दबाव बनाए हुए हैं। उनका कहना है कि चुनाव प्रचार सामग्री छपवाने और चुनाव प्रचार में लाखों रूपए खर्च हो चुकी हैं। चुनाव नहीं होने को लेकर प्रत्याशी कोर्ट भी जा सकते हैं। चुनाव कराने और नहीं कराने को लेकर पिछले दस दिनों से भाजपा, कांग्रेस, आयोग के बीच में गहमागहमी मची हुई थी।

सीएम हेल्प लाइन में शिकायत
सोशल मीडिया में आज सुबह से एक आडियो वायरल हो रहा है। जिसमें अलोट तहसील, जिला रतलाम निवासी भारत सिंह परिहार नामक व्यक्ति ने सीएम हेल्प लाइन में शिकायत दर्ज करा रहा है। जिसमें उनका कहना है कि वह जनपद पंचायत सदस्य के लिए पर्चा जमा किया था। चुनाव सरकार ने निरस्त कर दिया है। उसका कहना है कि मेरे 50 से 60 हजार रूपए चुनाव में खर्च हुए हैं। मैं कहां जाऊं।आप शिकायतें दर्ज करे। मैं अकेला नहीं हूं, ऐसे तो हजारों लोग हैं। इस पर सीएम हेल्प लाइन में शिकायत दर्ज करने वाली महिलाकर्मी का शिकायतकर्ता से कहना था कि आप की शिकायत यहां दर्ज नहीं की जा सकती है, मांग दर्ज की जा सकती है, जो हम दर्ज कर रहे हैं।

नए परिसीमन से बढ़ जाएंगी 1203 सीटें
अध्यादेश निरस्त होने और नए परिसीन होने से पंच से लेकर जिला प्रतिनिधि से लेकर पंच तक की 1203 सीटे प्रदेश में बढ़ जाएगी। नए परिसीमन से गांवों में 36 हजार वार्ड भी बढ़ जाएंगे। इसमें 11 हजार ग्राम पंचायतों के सरपंच बढ़ जाएंगे।
-----
नए परिसीमन के अनुसार संभावित सीटें
फैक्ट फाइल
संभावित में ग्राम पंचायतें-- वर्तमान में--पूर्व में जनपद पंचायतें-- वर्तमान में--पूर्व में जिला पंचायतें-- वर्तमान में
23924----------------22816-------313------------------313-----51----------------52
-----
संभावित ग्राम पंचायतों के वार्ड -- वर्तमान में--संभावितमें जनपद पंचायत के वार्ड-- वर्तमान में--संभावित में जिला पंचायतों के वार्ड ं-- वर्तमान में--
362523-----------------326459--------6790--------------------6833-------------904-----------852