ब्रोकर पति-पत्नी ने की खुदकुशी, इतने साल पहले हुई थी शादी

ब्रोकर पति-पत्नी ने की खुदकुशी, इतने साल पहले हुई थी शादी

नोएडा सेक्टर-120 पर्थला स्थित आम्रपाली जोडिएक सोसाइटी में रहने वाले पति-पत्नी ने शुक्रवार सुबह पंखे के हुक से फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। इससे पहले युवक ने कानपुर में रहने वाली अपनी बहन के पास ई-मेल करके इस बारे में जानकारी दे दी थी। पुलिस को मृतकों के पास से कोई सुसाइड नोट नहीं मिला है। दोनों शेयर ब्रोकर का काम करते थे।

पुलिस के अनुसार कानपुर के नौबस्ता निवासी 34 वर्षीय विनीत सिन्हा अपनी 31 वर्षीय पत्नी श्वेता के साथ सेक्टर-120 पर्थला आम्रपाली जोडिएक सोसाइटी के फ्लैट नंबर एफ 303 में रहते थे। दोनों की करीब तीन साल पहले शादी हुई थी।

उनके रिश्तेदार सोसाइटी में पहुंचे लेकिन फ्लैट का दरवाजा अंदर से लॉक था। काफी आवाज लगाने के बाद भी कोई प्रतिक्रिया नहीं आई तो उन्होंने पुलिस को सूचना दी। पुलिस मौके पर पहुंचकर दरवाजा तोड़कर अंदर घुसी तो दोनों के शव पंखे के हुक से बंधी चुन्नी से लटके थे। पुलिस ने शव को नीचे उतारकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। थाना प्रभारी का कहना है कि मृतकों के पास कोई सुसाइड नोट नहीं मिला है।

विनीत ने शुक्रवार तड़के कानपुर में रहने वाली अपनी बहन को ई-मेल भेजकर बताया था कि वे दोनों आज आत्महत्या कर लेंगे। इसके बाद उनकी बहन ने उनको कई बार कॉल की लेकिन विनीत ने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी। इस पर उनकी बहन ने ग्रेटर नोएडा में रहने वाले अपने रिश्तेदार के पास कॉल करके मामले की जानकारी दी।

पुलिस पूछताछ में सामने आया है कि दंपति गुरुवार रात को ही कानपुर से नोएडा पहुंचे थे। दंपति के बच्चे नहीं थे। परिजनों के आने पर शवों का पोस्टमार्टम होगा।

पुलिस ने पूरे मामले को लेकर मृतक विनीत के परिजनों से बात की है। विनीत की मां ने बताया कि वह रात करीब 10 बजे नोएडा पहुंचा था। उसने अपनी मां के पास मोबाइल पर फोन करके यह जानकारी दी थी। फिर मां से खाना खाने के लिए कहा था। विनीत की मां काफी समय से बीमार हैं।

कानपुर के सेंट जॉन मॉडल स्कूल के सामने बौद्धनगर नौबस्ता निवासी विनीत सिन्हा के घर में केवल उनकी मां ही रहती हैं। बेटा और बहू के फांसी लगाए जाने की सूचना मिलने के बाद घर के बाहर सन्नाटा पसरा है। विनीत की मां ने इलाके के किसी व्यक्ति को घर नहीं आने दिया।

परिजनों ने बताया कि विनीत के पिता कैंसर से पीड़ित थे। करीब डेढ़ महीने पहले ही उनका निधन हो गया था। विनीत का अपने पिता से काफी लगाव था। उनके देहांत के बाद से भी वह परेशान था। इसको लेकर परिजनों ने कई बार विनीत को समझाया भी था, लेकिन वह पिता के जाने से तनाव में रहता था।

लॉकडाउन के दौरान विनीत फ्लैट को ताला लगाकर अपनी पत्नी के साथ कानपुर चला गया था। वह करीब एक महीने पहले ही फ्लैट में वापस लौटा था। उधर, कानपुर में विनीत की पड़ोसियों से कम बोलचाल थी। इलाके में रहने वाले राकेश सिंह बताते हैं कि विनीत कानपुर कम ही आता था। जब भी वह आता भी था तो इलाके में किसी से बात नहीं करता था। पड़ोसियों ने बताया कि विनीत की मां भी ऐसे ही रहती हैं।  

पुलिस ने मृतक के परिजनों से उसके शेयर बाजार के व्यापार को लेकर भी बातचीत की। थाना प्रभारी का कहना है कि परिजनों के अनुसार विनीत को शेयर मार्केट में पिछले काफी दिनों से लगातार घाटा हो रहा था। इसको लेकर भी वह डिप्रेशन में था। लगातार हो रहे घाटे को लेकर उसने परिजनों से भी बात की थी। हालांकि, उस समय किसी को अहसास नहीं था कि विनीत आत्महत्या कर लेगा।