बरेली के हिन्दू मुस्लिमो ने एक दूसरे के लिए करा ऐसा काम, बन गए पूरी दुनिया के लिए एकता की मिसाल ।

Please Share
  • 41
    Shares

 

बरेली /  बरेली के बारे में ज्यादातर कर्फ़्यू, हिन्दू-मुश्लिम ही सुनने में आता है, मगर इस नाजुक वक़्त में अगर हिन्दू मुश्लिम साथ साथ देखने को मिल जाये तो ये चौकाने जैसा ही होगा, वो भी तब जब सारे देश में नफरत का पाठ पढ़ाया जा रहा हो,

कालीबाड़ी के लोगों ने सौहार्द की मिसाल क़ायम की, हुआ सम्मान, बीते दिनों हुज़ूर ताजुशशरिया के विसाल के मौके पर देश विदेश से बरेली आये लाखो अकीदतमंदो की सेवा जो बरेली वासियो ने की वो काबिले तारीफ़ मिसाल हैं, हिन्दू भाईयो ने आगे बढ़कर जो मुरीदों की सेवा की उसके लिये आज जनसेवा टीम की तरफ से कालीबाड़ी के लोगों का माल्यार्पण कर सम्मानित किया गया,

जनसेवा टीम के अध्यक्ष पम्मी खाँ वारसी ने कहा कि हमारी बरेली कौमी एकता भाईचारे वाला शहर हैं इस शहर का हर नागरिक सम्मान योग हैं,यहाँ के नागरिक हर मौके पर प्रेम दिखाकर उन असामाजिक शक्तियों का बहिष्कार करते हैं जो प्रेम और भाईचारे को नुकसान पहुँचाने का कार्य करते हैं।

मुरीदों के सेवा करने वाले कालीबाड़ी निवासी मनोज भारती ने कहा कि बाहर से जो भी अतिथि बरेली आये थे,उनकी सेवा करना हमारा कर्तव्य था,और हमारे सभी मोहल्लो के सहयोग से पानी और सर्वत की सबीले लगाई गई थी,आज हम सबको बहुत खुशी हुई के हम सबका मुस्लिम भाईयो ने सम्मान किया।

कालीबाड़ी के रूपकिशोर राजपूत लला ने कहा कि हम सब सबसे पहले इंसान हैं और हर मज़हब इंसानियत की सीख देता हैं।

जनसेवा टीम के महासचिव डॉ सीताराम राजपूत ने कहा कि हम सब हमेशा यही चाहते हैं हमारे शहर में जो भी आये वो प्रेम का संदेश लेकर जाये।

सम्मानित होने वालों में मनोज भारती,नीरज रस्तोगी,रोहित,शंकर,किशन,बॉबी, आकाश नन्ही,शोभित,अभिषेक,सागर,बब्लू,दौलत राम,श्रीगोपाल,रूपकिशोर राजपूत लला,तिलकराम,राजेश कुमार,मोहित माहेश्वरी,तुलसीराम,प्रेम भारती, आयुष,डॉ माधव सिंह,कैलेंद्र सिंह,श्याम सिंह लोधी,अशोक कुमार,मनसुख राजपूत आदि लोगों सम्मान कर धन्यवाद दिया गया।

जनसेवा टीम में मुख्य रूप से अतीक हुसैन चाँद,डॉ सीताराम राजपूत,मोहसिन इरशाद,उवैस खान,आमिर उल्लाह आदि रहे।

2 thoughts on “बरेली के हिन्दू मुस्लिमो ने एक दूसरे के लिए करा ऐसा काम, बन गए पूरी दुनिया के लिए एकता की मिसाल ।

  1. Bahut khushi ki bat hai.aisa hi hona chahiye.aisa nhi ek kahawat yad aagyee…Hum jiji ke baar bar .jiji humare ekau bar nhi.
    Dil milane me jo baat hai jo piyar hai woh nafrato me nhi.
    Jab hi to shayar Sarvesh ka wo sher yaad ataa hai kiya…Main ganga jal se wuzoo karloon tu Aabe zam zam pele phir lar ausse jo hai larane wala.
    Main zahen se ek reporter hun aur insaniyat ka chashma laga kar manvta ki nazar se dekhta hun.Mukesh sahab ka woh gana yad arha hai. Do qadam tum bhi chalo do qadam hum bhi chale.
    Bahut achha laga aisi khabar padh kar Main dil ki gehraiyon se apne aun Hindustani bhaiyon ka shukriya adaa karta hun aur Salute karta hun.
    Apne Rab se duaa karta hun ki humari Bareilly ke apsi piyar mohabbat ko humesha zinda rakhna.

  2. Wow that was unusual. I just wrote an incredibly long comment but after I clicked submit my comment didn’t appear. Grrrr… well I’m not writing all that over again. Anyways, just wanted to say wonderful blog!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »